Skip to content

Category: गीत

नई नवेली नारि
नई नवेली नारि अकेले पावस में ससुराल बसे. बारिश की बूंदे उसको- सौतन के ही मानिंद डसे. मेघा के ही साथ रात में, सेज पे... Read more
आसमान में बदरा छाये
आसमान में बदरा छाये देख कृषक मन भी हरषाये धरती माँ की प्यास बुझाने फसलों के तन को सहलाने बूंदों का संगीत सुनाने रिमझिम रिमझिम... Read more
मिलन का प्रथम प्रहर
चारुलता सी पुष्प सुसज्जित, चंद्रमुखी तन ज्योत्स्ना. खंजन- दृग औ मृग- चंचलता, मानों कवि की कल्पना. उन्नत भाल -चाल गजगामिनी, विधि की सुन्दर रचना है.... Read more
योजना है
सुनो एक योजना है।   जब तलक पूरी न होगी,   इस जहाँ में जिद हमारी।   जुबाँ पर फरियाद होगी,   अवज्ञाएँ फिर हमारी।... Read more
तो याद करना
कोई दर्द, कोई चुभन जब हद से गुजर जाए,तो याद करना, जिन्दगी में कभी जरूरत पड़ जाए,तो याद करना। बिछड़ते वक्त के ये आखिरी, अल्फाज... Read more
सहिष्णु
pradeep kumar गीत Jul 15, 2016
एक मुक्तक। कल तक तो इन सबको देखो होती चिंता भारी थी। बात बात पर जीभ सभी की पैनी छुरी कटारी थी। आज सहिष्णु चुप... Read more
जिस गली जिस शहर में चला सीखना , दर्द उसके मिटाने भी जाया करो
दूर रह कर हमेशा हुए फासले ,चाहें रिश्तें कितने क़रीबी क्यों ना हों कर लिए बहुत काम लेन देन के ,विन मतलब कभी तो जाया... Read more
वीणा बोलती है
एक गीत ********* गीत ------ प्रीत ने छेेड़े जो दिल के तार वीणा बोलती है ! लग रहा संगीत मय संसार वीणा बोलती है !... Read more
Chhaya Shukla गीत Jul 13, 2016
प्रिय तुम छेड़ो साज वही जो पहली बार सुने थे | राग वही अनुराग वही प्रिय तुम छेड़ो साज वही ..... नजरें मेरी जम जायें... Read more
Chhaya Shukla गीत Jul 13, 2016
यदि पुष्प तेरी कामना | तो शूल भी स्वीकारना | आगे अचल पहाड़ हो पर हार तुम मत मानना मत मौन हो संग्राम में बन... Read more
पैरोडी
Ashish Tiwari गीत Jul 8, 2016
चल दिए माँ के मढ़ुलिया ओए क्या बात हो गयी ! भक्तो की माँ शारद से मुलाक़ात हो गयी !! लंगड़ लूले स्वयं को ही... Read more
बेला फूल पर गीत
Ashish Tiwari गीत Jul 8, 2016
बेला रानी रात को महके , भँवरें झूमे चुपके चुपके ! भीनी भीनी खुशबू घर में , खुशी मनाये बच्चे सबके !! सतरँगी तितली फूलों... Read more