Skip to content

Category: गीत

बाद| तुम्हारे जाने के कल::: जितेन्द्र कमल आनंद ( पोस्ट १२१)
Jitendra Anand गीत Oct 27, 2016
गीत:: बाद तुम्हारे जाने के कल ----------------------------------- ( शेष भाग ) व्यर्थ की हठता आज विवशता , कल परवशता मत रोये ।। क्षणिक सुखों के... Read more
बनें सभी सत्पथ अनुगामी ::: जितेंद्रकमलआनंद ( पोस्ट११९)
Jitendra Anand गीत Oct 27, 2016
गीत व्यर्थ की हठता ,आज विवशता, कल परवशता मत रोये क्षणिक सुखोंके लिए विवश हो, पल अनगिन अनमोल गये ।। काम- क्रोध ,ममता विष त्यागें... Read more
सूर्य अग्रसर उत्तर दिशि में :: जितेंद्रकमलआनंद ( ९७/ १०२)
Jitendra Anand गीत Oct 24, 2016
नव्य वर्ष शुभ मंगलमय है ( गीत का शेष भाग ) ********************** साथ राम गंगा , यमुना है, प्रयागराज सुतीर्थ हुआ है । गढ़मुक्तेश्वर ,... Read more
ग्वाल वाल राधिका-- गोपियों से अंतस: जितेंद्रकमलआनंद ( पोस्ट८०,गीत)
Jitendra Anand गीत Oct 23, 2016
कवि के गीत वसंती ऋतु में पवने भी मनमोहित करते ।। ग्वाल - वाल ,राधिका - गोपियों से अंतस आनंदित करते ।। रंग - पर्व... Read more
कविकेगीत वसंतीऋतुमें पवने भीमनमोहितकरते( गीत)जितेंद्रकमलआनंद( पोस्ट७९)
Jitendra Anand गीत Oct 23, 2016
गीत:: ------ कविके गीत वसंतीऋतुमें पवने भी मन मोहित करते । ग्वाल - वाल ,राधिका - गोपियों से अंतस आनन्दित करते ।। देख सूर्यको दिग्-... Read more
जब से धरती बनी ,प्रकटे तारक चंद्र। जितेंद्र आनंद( पोस्ट ७८)
Jitendra Anand गीत Oct 22, 2016
तुम्हारे नाम ( गीत ) --------------------- अस्फुट काव्योद्गार, व्यक्त तुम्हारे नाम ! जबसे धरती बनी , प्रकटे तारक चन्द्र ! जब से गंगा पही, तट... Read more
यादें
Rita Singh गीत Oct 21, 2016
जीवन में कुछ साथी बिछड़कर याद आते हैं , वो खुशी थोड़ी ही देते हैं पर ग़म ज्यादा दे जाते हैै । दर्द उनसे बिछड़ने... Read more
भजन- मोहनी सुरतिया ने मोह लियो मन मेरो
मोहनी सुरतिया ने मोह लियो मन मेरो ------------------------------------------------ मोहनी सुरतिया ने मोह लियो मन मेरो , कि तोतली बतिया ने मोह लियो मन मेरो ।... Read more
प्यार को  पावन बनाओ , प्यार को पूजा फलित भावन बनाओ( गीत ) पोस्ट ३२
Jitendra Anand गीत Oct 17, 2016
प्यार को पावन बनाओ ********************* साध्य अपने प्यार को पावन बनाओ । प्यार को पूजा , फलित भावन बनाओ ।। सूर्य हो या चन्द्रमा या... Read more
कर सको तो
तेरा साथ छूटा,सम्हलने में वक्त लगा, अब फिर उसी मौसम,उसी प्रेम की तमन्ना मुझे, एक पल एक दिन एक घड़ी,तुम जो भी मंजूर करो, बस... Read more
बूँद ही अमृतमयी है, जो बुझादे प्यास प्यासे की ,विमल है( गीत) पोस्ट२९
Jitendra Anand गीत Oct 16, 2016
बूँद ही अमृतमयी है ********************************** गीत अंजुरी को बूँद ही अमृतमयी है, जो बुझा दे प्यास प्यासे की , विमल है । कण्ठ प्यासे का... Read more
एकता के गीत गायेंं, हो परस्पर प्यार इतना( गीत)पोस्ट २९
Jitendra Anand गीत Oct 16, 2016
एकता के गीत गायें **************** हम रचाने आ गये संसार फिर स्वप्निल धरा पर हो परस्पर प्यार इतना एकता के गीत गायें ।। सत्यता हो... Read more
जागो मेरे हिंदुस्तान ! बहुत हो चुका है अपमान( गीत)पोस्ट २८
Jitendra Anand गीत Oct 16, 2016
जागो मेरे हिंदुस्तान ! बहुत हो चुका है अपमान ****************************गीत********** तुम सोये तो भाग्य सो गया ,बहुत हो चुका है अपमान। यह सोने क् समय... Read more
लघु गीत ::: वत्स ! तुम्हारे ह्रदय- क्षेत्र में ( पोस्ट २५)
Jitendra Anand गीत Oct 15, 2016
लघु गीत : वत्स ! तुम्हारे ह्रदय-क्षेत्र में ------------------- वत्स ! तुम्हारे ह्रदय- क्षेत्र में बीज प्रेम के जो बोता है , उसका जब तक... Read more