गीत

*"शक्तिदायनी'*

*"शक्तिदायिनी"* हर खुशी से नवाजा दुःखो से हर लेती संकट हारिणी। प्रकृति भद्रकाली कपालिनी रौद्र रूपी गौरी धात्री सुखदायिनी। लक्ष्मी... Read more

बातें : इधर की उधर की या ज्ञानीचोर का दिल

एक आशियाना खोज के,मैं लौट आया। आँखों ही आँखों में खा के चोट आया।। टेक।। बातों ही बातों में दिल में खोट आया। नजरों ही नजरों में प्... Read more

सपने

ओ रे सपने! तुझे भूले नहीं है हम बस फंस गए थे हालातों में.. हो सकती है कुछ देर आने ना देंगे पर अंधेर कुछ गहरी सी लगी है चोट ज... Read more

भूख ने तोड़ा तो।

जिन सपनों ने गांव गली घर छुड़वाया, भूख ने तोड़ा तो वे सारे टूट गये।। दूर से चंदा जैसा लगता था लेकिन, पास गये तो पाया जुगनू मरा हु... Read more

...और मैं करता प्यार

गीतों की बस्ती का शहज़ादा...* मैं गीतों की बस्ती का शहज़ादा, मैं राजकुमार। -2 मैं गीत बनाता, गीत ही गाता और मैं करता प्या... Read more

प्यार

दिल ढूंढता है तुझको कही पर । चल हम पङे चाह के राह पर । पर हम करे क्या तुम ही बता दो । चांदनी का समा है ये कैसा वफा है । प्यार म... Read more

उस राम जी के चरणो मे मेरा है नमन

रंग है सांवला कान्ति से ओझल । सरल स्वभाव ज्ञान है विमल । उस राम जी के चरणो मे मेरा है नमन । नाम लेने से ही मुक्ति मिल है जाती । ... Read more

हे ईश्वर इस जहां से कीजै , कोरोना को दूर

हाहाकार हर ओर मचा है , हुए हैं सब मजबूर हे ईश्वर इस जहां से कीजै , कोरोना को दूर बंद पड़ा हर ओर यहां है , हुआ है क्षय सरताज यहा... Read more

है जान तो जहान है

देशहित में , देश से ये , देश का आह्वान है ये सोचकर सजग रहें है जान तो जहान है स्वच्छता और सतर्कता का ही उपयोग हो कोरोना से लड़न... Read more

कोरोना पर देश से अपील

देश को बचाने का प्रयोग मिलके कीजिए विपदा की घड़ी है ये सहयोग मिलके कीजिए ना कोई गुमराह हो , ज्ञान के अभाव में बदलाव की जरुरत है... Read more

कोरेना का कहर

ऐसा अकाल आया हैं देश में, देश विचारा रोया, किसान रोया फ़सल खेत में, हाय अब क्या होया, बादल छाये बीमारी भी इतनी आयी, ... Read more

बाल कविता .....बस पापा घर पर ही रहना

== बस पापा घर में ही रहना *************** कब से बच्चे तरस रहे थे। सपने सारे बिखर रहे थे । पापा के संग कब खेलेंगे ? पापा स... Read more

" पुरुषोत्तम राम हैं " !!

( चैत्र नवरात्र के शुभ अवसर पर ) गीत जाने कितने ग्रन्थ हैं राम पर लिखे गये ! जाने कितने काव्य हैं , राम प... Read more

नमन करता हूँ मैं

नमन नम नैन करते हैं शहीदों की जवानी को नमन करता हूँ मैं सूखे हुए आँखों के पानी को बड़ा ही लाडला था,माँ की वो आँखों का तार... Read more

कोरोना की हार।

हो जाएगी इक दिन देखो कोरोना की हार गले मिलेगा इक दूजे से, पूरा ये संसार आज बनाता हम सबका ही आने वाला कल है मानव को मिलता उस... Read more

खिल गई है धूप

खिल गई है धूप रात कंही गुम हो गई काले बादल अब सुबह में बदल गई आशा की बूंदे हर जगह बिखर गई जो चल पड़ी आनंद लहर हर तरफ उमंग भर ग... Read more

कोरोना महामारी से बचाव समझदारी

विश्वव्यापी दैत्य कोरोना वायरस के तांडव को समाप्त करने की अपील करते हुए। मेरा स्वरचित गीत तर्ज (बता मेरे यार सुदामा रे बड़े धना दीन... Read more

अंतस का उत्पीड़न

'अंतस का उत्पीड़न' ------------------------ मेरे उत्पीड़न की ज्वाला, धधक उठी गहराएगी, अंतस के गहरे जख़्मों को, गाकर तुम्हें सुन... Read more

कोरोना गान

यह सन्देशा हर मुँडेर से कोयल बनकर कूको ना। जनमानस की सेवा का यह स्वर्णिम अवसर चूको ना।। जनधन के प्राणों पर संकट, विपदा है यह बहु... Read more

परेशान सा क्यूं है

हर तरफ मची ये कोहराम सा क्यू है । चैन नही आंखो मे ये थकान सा क्यूं है । हमको लगती ये जिंदगी श्मशान सा क्यूं है । हर देश मे हर शख्... Read more

मानुष जनम अमोल रे !

मानुष जनम अमोल रे ! मीठा - मीठा बोल रे ! आये हो तो कर लो आपसी प्रेम मेल -जोल । यह दुनिया है दुःख से भरी रे ! यहाँ पर सुख न ... Read more

हिंदी में एक कुरआन लिखो

भगवान को अब लिख दो खुदा,खुदा को अब भगवान लिखो उर्दू में लिख दो गीता, हिंदी में एक कुरआन लिखो दीपावली पर्व पर ... Read more

अनुरागी मन

'अनुरागी मन' (गीत) देख तरंगित लहरों को मैं कितनी बार मचलता हूँ, बैठ किनारे सागर के मैं खुद से बातें करता हूँ। विरह-वेदना अंतस... Read more

कोरोना

विधा श्रृंगार छंद विकट है कोरोना का ज्वार| मचा है जग में हाहाकार|| सभी के संकट में है प्राण| नहीं मिलता है इससे त्राण| व... Read more

" आँसू की परवाह नहीं " !!

प्रस्तर हृदय तुम्हारा ऐसा , आँसू की परवाह नहीं !! मन की व्यथा कभी न बाँची , खुशबू से बस नाता है ! एक बार जो वरण हुआ तो , कहाँ... Read more

कोरोना गीत:- दुनिया भर में है रोना...

दुनिया भर में है रोना। कोरोना बस कोरोना।। लाइलाज है बीमारी। दुनिया की ये लाचारी।। बचने की रख तैयारी। धीरज मत अपना खोना।। ... Read more

चलते चलते कहाँ पहुँच गया

चलते चलते कहाँ पहुँच गया, क्या सोचा था, क्या हो गया, खोजते खोजते सागर सुख का, मिल गया देखो दरिया दुख का , बढ़ी जो सुख की यह ल... Read more

क्या लगती हो

कैसे मै बताउ की तुम क्या लगती हो । रब की कसम तुम हॉट लगती हो ।। रब की कसम तु हॉट लगती हो । पांवो मे पायल आंखो मे काजल ।। होंठो क... Read more

तुमको मुझसे प्यार नहीं है

दिलोजान से चाहूँ तुमको अब ये चर्चा आम है। तुमको मुझसे प्यार नहीं है ये तुम पर इल्जाम है। जब सोऊँ तो ख़्वाब तुम्हारा जब जागूँ तो ख़... Read more

लहर लहर लहराये तिरंगा

आजादी का दिन गूँजा है जन गण मन के गान से लहर लहर लहराए तिरंगा नीलगगन में शान से सच्चाई की राह चलें हम और इरादे नेक हों भेदभाव क... Read more

जाने वाला पल खुशी का लौट आयेगा

गम के काँटों में घिरा गुल मुस्कुराएगा जाने वाला पल खुशी का लौट आयेगा हार मत हिम्मत कदम आगे बढ़ा अब छोड़ दे डर आस्तीनों को चढ़ा अ... Read more

जिंदगी जिंदगी का पता दे मुझे

जिंदगी जिंदगी का पता दे मुझे तुझसे खुश कौन है ये बता दे मुझे तुझको जीना कहाँ इतना आसान है शख्स कोई भी हो बस परेशान है खुद में ... Read more

जय श्री राम कहा करिए

मन हो जाए प्रफुल्लित पल में सुबहो शाम कहा करिए बिगड़ा काम बनाना हो तो जय श्री राम कहा करिए साधारण से साधारण को इस नाम ने खास बना ... Read more

होठों की मुस्कान नहीं खोने देना

कष्ट हृदय में हो अनंत विस्तृत हो अपयश दिग् दिगंत हो पीड़ा का अदृश्य,अंत पर धैर्य रहे मन मनुज संत इस पीड़ा को विषबेल नहीं बोने देना... Read more

देखें क्या उधर है

सीप में मोती मिले या न मिले दीप में ज्योती मिले या न मिले पेट को कर कैद में चल दे मुसाफ़िर आज फिर रोटी मिले या न मिले खोल आँखें,... Read more

राधा याद आती है

मेरे ख्वाबों में आकर रात भर मुझको जगाती है कहा कान्हा ने ऊधौ से कि राधा याद आती है अकेले बैठकर गुमसुम वो मुझको सोचती होगी कि पल... Read more

हमारे देश में

बारूदी खुशबू फिर से उड़ रही हमारे देश में एक बार फिर नदी खून की बही हमारे देश में छत्तीसगढ की धरती ने फिर खूनी ध्वज फहराया है जी... Read more

ऐ चंदा तू जाकर बदलियों में छुप जा

है खुशबू हवाओं में वो आ रही है चला जा ऐ भंवरे तू कलियों में छुप जा शरम से कहीं लौट जाए न प्रियतम ऐ चंदा तू जाकर बदलियों मे छुप ज... Read more

अँधेरा कुछ तो कम होगा

न ये सोचो अकेले दूर कैसे तुमसे तम होगा जलाओ ज्ञान का दीपक अँधेरा कुछ तो कम होगा बदलनी है तुम्हे इस देश की तकदीर अब साथी चलो ... Read more

ये कैसी आजादी है

वस्त्र विदेशी तन को ढँकते कूड़ेदान में खादी है तुम्हीं बताओ मुझको बापू ये कैसी आजादी है अन्न उगाने वालों के घर मौत भूख से होती है... Read more

लगा जैसे तुमने मुझे छू लिया है

निशा के शहर में खिली चांदनी जब लगा जैसे तुमने मुझे छू लिया है तुम्हारी घनी लम्बी जुल्फें खुलीं जब लगा जैसे तुमने मुझे छू लिया है।... Read more

कवि ऐसे ही होते हैं

उड़ जाती है नींद आँख से दिन का चैन भी खोते हैं समझ सके न जिनको दुनिया कवि ऐसे ही होते हैं रूहों की बस्ती में जाकर उनकी गाथा गाते ... Read more

ऐ चंदा तू जाकर बदलियों में छुप जा

है खुशबू हवाओं में वो आ रही है चला जा ऐ भंवरे तू कलियों में छुप जा शरम से कहीं लौट जाए न प्रियतम ऐ चंदा तू जाकर बदलियों मे छुप ज... Read more

हे हंसवाहिनी

हे हंसवाहिनी जीवन का आधार हमें दे दो हम गीली मिट्टी हैं माँ आकार हमें दे दो तुम सरगम में,तुम गीतों में,तुम हो ताल में,लय में दे... Read more

हमें हर घड़ी मुस्कुराना पड़ेगा

ये माना कठिन है बहुत जिन्दगी ये मगर जी के हमको दिखाना पड़ेगा दबाकर के पीड़ा को औरों की खातिर हमें हर घड़ी मुस्कुराना पड़ेगा तड़पते... Read more

रंगमंच का हर किरदार मुबारक है

जिस्म रूह के संगम का हर इक अवतार मुबारक है दुनिया के इस रंगमंच का हर किरदार मुबारक है सौ झूठों पर भारी पड़ जाता है सच्चा मौन यहाँ... Read more

लौट चल जिंदगी

आये हैं रूह अपनी जहाँ छोड़कर लौट चल जिंदगी फिर उसी मोड़ पर गोद में लेटकर लोरियाँ फिर सुनें ख्वाब परियों से मिलने का फिर से बुनें ... Read more

सजा मघइया मेला रे

आया माघ-मघइया जुट गई भीड़ है रेलमरेला रे संगम तट पर तन गए तम्बू सजा मघइया मेला रे साधू-संतन के फौजन मे भांति-भांति के लोग ... Read more

अब मन की पीर लिखेंगे हम

अब न धर धीर लिखेंगे हम अपनी तकदीर लिखेंगे हम श्रृंगार की कश्ती डूब गयी अब मन की पीर लिखेंगे हम किस्मत जिनकी खोटी है न रोटी है... Read more

दुःख का आलिंगन कर लेना

रात अँधेरी घिरी रहे सब अस्त व्यस्त हो जीवन में सर पर हो जाए वज्रपात मंजिल खो जाए अँखियन में उस वक्त़ सँभालो खुद को तुम तन-मन मे... Read more