Skip to content

Category: गीत

बदलो चौकीदार को
Naresh Sagar गीत Feb 21, 2018
..........बदलो चौकीदार को ************* देखो चौकीदार को, चोरों के सरदार को अच्छे दिन वो वांट रहा, देश के गद्दार को फिर भी सबसे अच्छा है,... Read more
अभिलाषा
कंधों पर लटकी गुते तेरी ऊरोजों को छूती हैं ऐसे सावन का बादल, पर्वत की चोटी को छूता हो जैसे. चंचल से नयन तीखी चितवन... Read more
गीत
एक गीत ( ताटंक छंद आधृत) कब तक यूँ ही गद्दारों पर, दया दिखाते जाएँगे। भारत के माँ लाल दुलारे,कफन ओढ़ते जाएँगे।। धींगामुश्ती का खेल... Read more
कुछ करो सुधार
🌻🌻🌻🌻🌻 भले कर्म अनमोल हैं बन्धु, बुरे कर्म सब मिट्टी-धूल। प्रभु के हाथ सब लेखा-जोखा, वह सब कर लेता है "वसूल"।। 🌻🌻🌻🌻🌻 नेकी का तुम... Read more
नज़ारे सफलता के
प्रकृति में देखिए चलके नज़ारे सफलता के। मायूस न हो यार आएंगे दिन सबलता के।। फूलों से हँसना कलियों से सीखें मुस्क़राना। नदियों से गतियाँ... Read more
---बचके था रहना---
शरमा गई वो,घबरा गई वो। नज़र रब्बा नज़र,टकरा गई जो।। उलझी पहेली,चली वो घर से। गुज़री बग़ल से,हँसती गई वो। शरमा गई.......... भोला चेहरा,ज़ालिम अदाएँ।... Read more
~~~~~~ अर्चना ~~~~~~
RUPESH KUMAR गीत Feb 3, 2018
नवीन गीत लिख सकूँ , नवीन कल्पना दो ! नवीन गीत गा सकूँ , नवीन अर्चना दो !! नवीन सृष्टी में मुझे , नवीन साज... Read more
विनती
ब्रज भाषा में वंदना ----------------------- *विनती* ******* विनय करहू कर जोर री, रवि मोरे दमकै अँगना । करियो कृपा की कोर री, शशि मोरे चमकै... Read more
हुआ दर्द से प्यार
*हुआ दर्द से प्यार* ------------------------ तुम्हीं बताओ कैसे तोड़ूँ किये हुए अनुबंध ? - आँखें खोलीं , मिली पाॅव को दलदल की सौगात, सीख लिया... Read more
*लगी नज़रिया रे*
गीत.....! ---------- *लगी नज़रिया रे* *************** सूने-सूने मन के पनघट, रीती पड़ीं गगरिया रे । किस बैरी की लगी रूप को, जाने बुरी नज़रिया रे... Read more
हे ज्ञानेश्वरी माँ
हे ज्ञानेश्वरी मैया मेरे हृदय विराजो माँ, तुम शुभ्र वस्त्र धारिणी,तेरी हंस सवारी माँ, है धवल रूप तेरा सबसे ही न्यारा माँ, तुम कलुष हारिणी... Read more
गीत
गीत ***** *हुआ दर्द से प्यार* ------------------------ तुम्हीं बताओ कैसे तोड़ूँ किये हुए अनुबंध ? आँखें खोलीं , मिली पाॅव को दलदल की सौगात, सीख... Read more
गारी धुन
भारत माता खो,तुम सब बचालो। नेतर हुइहे गुलाम मेरे लाल........ वीर भगत ने कुर्वानी, उनखे तुम सलाम मेरे लाल ........ आज भारत मुश्किल आई, नेतर... Read more
माता पिता मेरे भगवान
ANIL KUMAR गीत Jan 19, 2018
कोई कहता है रब तुमको कोई कहता है राम कोई कहे सृष्टि नियन्ता कोई कहता घनश्याम कोई कहता रब ......... कोई कहे प्रभु निराकार कोई... Read more
*काले *
Naresh Pal गीत Jan 17, 2018
तन के काले मन के काले । एंडी से चोटी तक काले।। फिर भी कहते 'पुरषोत्तम,। कहो नीच हो,याकि उत्तम । हंस नहीं बन सकते... Read more