गीत

जग में दो दिन का यह नाता

जग में,दो दिन का यह नाता, प्राणी,क्यों मन को भरमाता l जब तक साँस चले जीवन की, तब तक आस रहे इस तन की, ... Read more

गधा चला पढ़ने विद्यालय,

सार छंद 🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺 गधा चला पढ़ने विद्यालय, ले हाथों में बस्ता। चलते-चलते भूल गया वह, विद्यालय का रस्ता। इधर- उधर वह दे... Read more

प्याज

श्रंगार छंद हुआ अच्छे दिन का आगाज़। जेब में रखकर घूमो प्याज़। प्याज़ मिलता है मँहगे दाम। नमक मिर्ची से चलता काम। नहीं अ... Read more

गौरैया

विधा.. लावणी छंद ★★★★★★★★★ बिन वर्षा जंगल सूखा है, सूखे सब ताल तलैया। सूखी टहनी पर बैठी हूँ,मैं गुमसुम-सी गौरैया। उजाड़ दि... Read more

इंसाफ हुआ है

एकदम सही ये जुर्म के खिलाफ हुआ है छुपा न कुछ भी पूरा साफ साफ हुआ है दक्षिण की खबर सुनके लग रहा है ये भारत में आज असली इंसाफ हुआ ... Read more

जानता हूं मैं

जीवन के कठिन रस्तों पे चलना जानता हूं मैं मुझे गिरने की न चिंता संभलना जानता हूं मैं चाहे गम हो या खुशियां मुझे न फर्क कोई है समय... Read more

जय श्री राम

बस एक शब्द बसे जिसमें सभी तीरथ व चारों धाम सभी संताप मिट जाते जो हृदय से ले लो उनका नाम वो रक्षक है मर्यादा के और भक्तों के वत्सल ... Read more

सावन गीत

सावन गीत लगे प्यारे , सावन मीत लगे प्यारे पिया छोड़ गए हमको भूल गए अब तो सावन भी हमसे रूठ गए अब तो आजा ओ परदेसी हम तो तुम से ह... Read more

बोल बम-बम कांवड़िया बोल।

शृंगार छन्द बोल बम-बम कांवड़िया बोल। सदा शिव की मस्ती में डोल। पुण्य सावन का आया माह। पूर्ण होगी तेरी हर चाह। लिए काँवड... Read more

देव अब जो करना निर्माण।

******************** शृंगार छंद ******************* देव अब जो करना निर्माण। पुरुष से नारी हो बलवान। लौह तन सांकल-सी ... Read more

" फसलें खूब धुली इस बार " !!

पानी ने सब पानी फेरा , फसलें खूब धुली इस बार ! हाथ सभी के खाली खाली , वाह रे खूब करी करतार !! आँखों में कुछ दिवास्वप्न थे , उ... Read more

" चलना बड़ा कठिन है " !!

नई राह है नई डगर है , चलना बड़ा कठिन है !! रिश्तों के अनुबंध नये हैं , नई नई सौगंध ! देह सजी है मनसिज नाचे , टूट गये कसे बंध !... Read more

रूठे हुए हैं क्यों

ख्वाबों के सारे रंग वो झूठे हुए हैं क्यों शय सारे मेरे नाम से रूठे हुए हैं क्यों क्यों बहारें एक अर्से से यहां आती नहीं ये नज... Read more

गीत ....भारत मां कितनी प्रगति कर रही है

गीत .......भारत मां कितनी प्रगति कर रही है =========================== प्रगति की और हम कैसे बढ़ रहे हैं नफरतों की खूब सीढ़ियां... Read more

भोर का आनंद लै लो

छन्द - रजनी मापनी युक्त मात्रिक । 23 मात्रा , 19 - 9 पर यति । यह छन्द राधा का वाचिक रूप है । मापनी - 2122 2122 2122 2 श... Read more

बालमा ओ बालमा (विरह गीत)

विधा-रूपमालाछंद ★★★★★★★★★★ बालमा ओ बालमा जी,क्यों गये परदेश। चार पैसे के लिए दिल,पर लगा कर ठेस। हाय तेरी नौकरी से, छिन गया सुख... Read more

सर्द की रात( विरह)

रूपमाला छंद शिल्प-14'10की यति पर चरणान्त गुरु लघु मापनी-2122,2122, 2122 21 ********************************* काटते कटती नहीं ... Read more

बाबा तेरी लाडली,फिर से हुई शिकार

बाबा तेरी लाडली,फिर से हुई शिकार आये माधव भी नहीं, सुनकर वही पुकार माँ करती थी रात दिन, मेरा बड़ा दुलार बाबा तूने भी दिया , म... Read more

आबे ओ मोर अँगना म

आबे ओ मोर अँगना म आबे ओ मोर अँगना म........2 मन मन्दिर म ओ,तोला बसाय हव। दिल के रानी ,तोला बनाय हव। आबे ओ मोर अँगना म......2 आह... Read more

सरस्वती वंदना

रूपमाला छन्द ★★★★★★★★ हे भवानी! भारती! मुझ पर करो उपकार। हाथ जोड़े हूँ खड़ी कर लो नमन स्वीकार। दीप आशा की जलाये आ गई हूँ ... Read more

सरस्वती वंदना

हरिगीतिका छंद ★★★★★★★ हे भारती! तप साधिका विद्या,कला,शुभदायिनी। हे मात! नत मस्तक नमन है, वंदना नित नंदिनी। माँ!सौम्य रूपा,चं... Read more

भारत का गणतंत्र

आस्था अर विश्वास का, मूल्यों का है मंत्र इक किताब है न्याय की , भारत का गणतंत्र यहाँ धर्मनिरपेक्षता, समानता का सार प्रेम औ... Read more

माँ वीणा की झंकार भर दो

माँ वीणा की झंकार भर दो ! माँ वीणा वादिनी, मधुर स्वर दो ! हर जिह्वा वैभवयुक्त कर दो !! मन सारे स्नेहमय हो जाये, जीवन में वो अ... Read more

तुम पे जो मैंने गीत लिखे

बिखेर चली तुम साज मेरा ! अब कैसे गीत गाऊँ मैं !! तुमने ही जो ठुकरा दिया अब किस से प्रीत लगाऊं मैं !! सूना -सूना सब तुम बिन ... Read more

सार छंद आधारित गीत

#विधा - सार छंद आधारित गीत #रचना -👇 इच्छाओं के वस में होकर, कष्ट मनुज पाता है। अभिलाषा के महा भँवर में, धसता ही जाता ह... Read more

लावनी छंद आधारित गीत (रौद्र रस)

#विधा 👉गीत (लावनी छंद आधारित) #रचना 👇 ----------------------------------------------------- #मुखड़ा अग्रज दो आशीष मुझे मैं, वाण... Read more

सरसी छंद आधारित गीत

#विधा 👉 गीत (सरसी छंद आधारित) #रचना: 👇 ------------------------------------------------------------------ #मुखड़ा पहने चोला ... Read more

हम ने तेरी चाहत में खुद को सजा के रखा है

हम ने तेरी चाहत में खुद को सजा के रखा है झुमके-बाली, कंगना बिंदिया लगा के रखा है आओगे उम्मीद नहीं है फिर भी आश लगा के रखा है ... Read more

निशानी न मिटा पाओगे

दिन सुहाना रात सुहानी न मिटा पाओगे चाहे कुछ भी कर लो कहानी न मिटा पाओगे घिस लो हाथ तुम भी पर याद रखो इतना निशान ही मिटेंगे निशान... Read more

सूरज/सूर्य

-दोहा गीत सूरज पूरब से उगा, लाया नवल प्रभात। सभी ओर है रोशनी, खत्म हुई अब रात। नव-कलियाँ खिलने लगीं, फूलों पर मुस्कान। ... Read more

दिल के अरमां..

दिल के अरमां आँसुओं में बह गए! वो तो सी एम बनते बनते रह गए! दिल के अरमां आँसुओं में बह गए! कुर्सी उनकी आस बनकर रह गयी! गठबन्धन... Read more

जुगुनू जैसा है प्रकाश बस,

जुगनू जैसा है प्रकाश बस, मिटा न तिल भर भी अँधियारा , गर्व बढाया मन में इतना, सूरज को तुमने ललकारा। यह गर्वोक्ति न ले लो ... Read more

दोहा गीत

बन अज्ञानी तू नहीं, ऐ भोले इंसान जीवन ये अनमोल है, रखले पूरा ध्यान आँखों में जो बन्द हैं, तेरे अनगिन स्वप्न पूरे करने के लि... Read more

मोहे बरसाने में छोड़ गयो

मोहे बरसाने में छोड़ गयो काहे तकरार करे ना राधे मोरी सारी सखियां पूछे हैं तोहे का हो गयो श्री राधे मोहे... या तो तूने दरस दिख... Read more

निशानियां मिटती नहीं

वक्त के पन्नों से कोई कुर्बानियां मिटती नहीं मिटते भले निशान हैं निशानियां मिटती नहीं तयशुदा हर चीज की पूरी मियाद रखता है अपन... Read more

पोस्ट थानेदार की

जितनी पोस्टे भैया सरकार की, सबसे कठिन थानेदार की । ( २ ) लफड़ा झपड़ा जब बिध जबे करन रिपोर्ट थाने में जावे, पहले पैसा उते चढ़ाब... Read more

19 नवम्बर - रानी लक्ष्मीबाई विशेष

युद्ध की हुंकार थी , ललकार की वाणी थी वो सिर्फ झांसी की न पूरे हिंद की रानी थी वो उसमें था जज्बा भरा कूट कर के देशभक्ति का वो प... Read more

आशीष

मुझको का सब आशीष मिले, प्रभु ऐसी ज्योती बन जाऊँ। और भाई-बहन की आशाओं का, कोई खजाना बन जाऊँ।। और बनू उस माला का मोती, जो निस-दिन ... Read more

" आँखों से मोती ढलते हैं " !!

पीड़ा से अनबन हो जाये , आँखों से मोती ढलते हैं ! आशाओं के दर्पण चटके , छन से तो आवाज हुई ना ! यायावर सा जीवन भटके , कभी कोइ मन... Read more

गीत- उन बच्चों का जीवन भी तो जीवन है

गीत- उन बच्चों का जीवन भी तो जीवन है ■□■□■□■□■□■□■□■ जिनके हैं माँ-बाप नहीं, बस क्रंदन है उन बच्चों का जीवन भी तो जीवन है भूखे... Read more

इंसानियत का भाव

प्रेम करूणा दया और सद्भाव नहीं भूलूंगा कुछ भी हो इंसानियत का भाव नहीं भूलूंगा हमने बुजुर्गों को अपने पाया है वरदान में अपना मान... Read more

मेरी मुहब्बत

अब मेरी मुहब्बत ज़वा हो रही हैं! ये इशारो इशारो में बया हो रही हैं! वो निगाहे मिलाना वो नज़रे उठाना! तेरा शर्मो हया से नज़र फ़ेर जा... Read more

*"बचपन के दिन"*

*" बचपन के दिन"* काश ..! बचपन के दिन फिर से लौट आते। पचपन के हो बचपन जैसे छोटे बच्चे बन जाते। इतराते बल खाते झूमते हुए खेलते गाना... Read more

जीवन संवार डाला मेरा

मुश्किल जो थी राहें उसे आसां मुकाम कर खुशियां जमाने भर की उसने मेरे नाम कर वीरान से जीवन में वो बहार ले आई जीवन संवार डाला मेरा ह... Read more

श्रीराम जीत गए

भारत में भक्ति भाव के आयाम जीत गए वनवास हुआ खत्म और श्रीराम जीत गए वर्षों चली जद्दोजहद हक को जताने की राम जन्मभूमि को अपना बत... Read more

पहचानो तुम मन की शक्ति

सृष्टि की अंधी दौड़ भाग जीवन में लगी हुई आग हो तुम मानव मन की प्रीत रच लो मौन राग का गीत छोड़ो झूठी यह आसक्ति ... Read more

पंथी गीत सत ज्ञानी बनो जी

पंथी गीत:सत ज्ञानी बनो जी सतधारी बनो जी ....2 सत ज्ञानी बनो जी .......2 ज्ञान ल पाके ...... गुरुज्ञानी बनो जी । चरण कुंड ला... Read more

सबकुछ पिघलने लगा है

... तेरे मेरे बीच में था जो सब कुछ पिघलने लगा है कोई आरजू नहीं है मेरा दिल धड़कने लगा है तेरी झूठी बातों का कब तक अब ऐतबार क... Read more

गुरपुरब बनानक का

आओ जन्म दिवस मनाएं बाबे नानक का, घर - घर में संदेश पहुचाएं बाबे नानक का। जबर -ज़ुल्म के ख़िलाफ़ आवाज़ यारों उठानी है, ग़रीब और भू... Read more

" जीवन इक मधुगान है " !!

मौन निमंत्रण हमें मिल रहा , अधरों पर मुस्कान है !! मन की बात कही ना जाये , ऐसे धड़के प्राण हैं !! सभी सुधारस यहाँ चाहते , यह न... Read more