गज़ल/गीतिका

दिल के भी हाल चाल मगर पूछते चलो

कितना भी तेज ज़िन्दगी में तुम चले चलो दिल के भी हाल चाल मगर पूछते चलो सपनों के साथ रिश्तों को है साधना तुम्हें अपनी खुशी या ग... Read more

दुपट्टे पर एक गजल ---आर के रस्तोगी

दुपट्टे पर एक गजल दुपट्टा अब तो आउट ऑफ़ फैशंन हो गया | अब तो बेचारा ये फटकर बेकार हो गया || समझते थे कभी इसे शर्म-हया की नि... Read more

एक ग़ज़ल

एक ग़ज़ल दूर सदा ही वो रहते हैं, उनको अपना रब कहते हैं। बस ग़म की बातों को छोड़ो, सुख में भी आंसू बहते हैं। बेशक ते... Read more

ग़ज़ल

ज़ख़्म दिल के बहुत ही गहरे हैं हाँ मगर ये बड़े सुनहरे हैं ये निशानी हैं मेरे दिलबर की साँस बन कर जो मुझमें ठहरे हैं... Read more

गज़ल

हम इश्क में हो गये बरबाद इस शहर में हैं परिन्दे भी नहीं आजाद इस शहर में, हर तरफ बौने ही दिख रहें हैं हमको तो क्या नही कोई भी शम... Read more

ग़ज़ल- मिलती खुशियाँ नहीं ज़माने से

ग़ज़ल- मिलती खुशियाँ नहीं ज़माने से ■■■■■■■■■■■■■■ मिलतीं खुशियाँ नहीं ज़माने से, मांग लेता हूँ मैं वीराने से। बाप माँ तो खुदा सरी... Read more

बाम पर बेनक़ाब बैठे हैं

करने ख़ाना खराब बैठे हैं बाम पर बे नक़ाब बैठे हैं वो जो चुप-चूप जनाब बैठे हैं लेके वो इन्क़लाब बैठे हैं कल तलक शान थे जो महफिल ... Read more

हमारी-तुम्हारी निभेगी यहाँ भी

फ़ऊलुन फ़ऊलुन फ़ऊलुन फ़ऊलुन वज़्न-122-122-122-122 ------------------------------------- खिला आज तो चेहरा यार का है। लगे ये नशा तो हमे... Read more

हर रुठे इंसान को मनाया जाये ---आर के रस्तोगी

हर रुठे इंसान को इस देश में मनाया जाये | जी बिछड़ गये,उनको गले लगाया जाये || होगा भारत का पूर्ण विकास तब ही हमारा | जब हर देशवास... Read more

गज़ल

जीवन सफ़र है सबर रख ले तू कहाँ है ज़रा-सी ख़बर रख ले तू कहीं तुझको बहका के भटका न दे अपनी नज़र पर नज़र रख ले तू चला ही जो ह... Read more

एक ग़ज़ल

याद कर के आपको हम रो रहे हैं , छल हमेशा ही हमीं से हो रहे हैं । फल कभी देंगे नहीं हमको यकीं है , बीज फिर भी आरज़ू के बो ... Read more

एक ग़ज़ल

एक ग़ज़ल रोग सारे पालते ही जा रहें हैं , एक दूजे को यहां सब खा रहे हैं । जानता हूं आपकी औकात को मैं, नाग बन कर बीन पर ... Read more

नीम है तू मगर दवा भी

मुतदारिक मुसम्मन अहज़जु आख़िर फ़ाइलुन फ़ाइलुन फ़ाइलुन फ़ा ------------------------------- वज़्न-212-212-212-2 -------------------------... Read more

" लौट कर आये "

कहानी दूर तक जायें, फ़साने लौट कर आये मेरे किस्से ज़माने को, बताने लौट कर आये कभी आँखों से बहकर के, जो छलके थे मेरे सपनें फलक पे ... Read more

ग़ज़ल- मुझे बज़्म में तुम...

ग़ज़ल- मुझे बज़्म में तुम... ■■■■■■■■■■■■■ मुझे बज़्म में तुम बुलाते हो साहब, मगर नाम भी भूल जाते हो साहब। जो तोड़ा है रिश्ता मुझे ... Read more

रूठ लो

कुछ रास्तों की अपनी जुबां होती है, कोई मोड़ चीखता है, किसी कदम पर आह होती है... पूछे ज़माना कि इतने ज़माने क्या करते रहे? ज़हरील... Read more

अब हर मुश्क़िल से लड़ने को तैयार हो गया हूँ

चलते-चलते राहों का मैं सरदार हो गया हूँ। अब हर मुश्क़िल से लड़ने को तैयार हो गया हूँ।। आँधी क्या रोकेगी मुझको गोली हुए चला हूँ। म... Read more

आज़ाद गज़ल

होती है क्या तरक्की किसी गरीब से पूछो छिन गई हो जिसकी रोज़ी बदनसीब से पूछो । रहनुमा रहम दिल हो , ऐसा कभी नहीं हुआ किस कदर ये ख... Read more

दोहरे किरदार को निभाते हो तुम

ग़ज़ल--------------------------------। वज़्न-212-221-212-222 ----------------------------------------।। दोहरे किरदार को निभाते हो तु... Read more

मीठे बोल लब पर दिल में बंदूक रखता है

ग़ज़ल----------------------------------------। वज़्न-222-122-222-212-22 ------------------------------------------------।। मीठे बो... Read more

ख्वाब ही सही मुलाकात हो जाती

ख्वाब सही मुलाकात हो जाती सारी उम्र ग़र ये रात हो जाती तेरी जुल्फों तले छुपा हैं बादल, उठा लेती तो बरसात हो जाती तुम्हारे... Read more

मुमकिन है हर काम

ग़ज़ल----------------------------------------। वज़्न--222-221-222-122 ------------------------------------------------।। मुमकिन है ह... Read more

मन और रिश्ते

देख दिलों में दूरियाँ, मन है बड़ा उदास । रिश्तों में भी खो रहा, मन अपना विश्वास ।। भावहीन संवाद तो, लगें दिखावा मात्र । आँखों से... Read more

बसंत(दोहा ग़ज़ल)

पतझड़ बीता फिजाँ बसंती , मिली हमें सौगात पेड़ों की डाली डाली पर, उगे नये हैं पात हरा घाघरा पहन धरा ने , पीत चुनर ली ओढ़ गेंदा चं... Read more

गज़ल

जरूरत हो तो मेरी लेखनी अंगार लिखती है नहीं तो ये मुहब्बत के मधुर अशआर लिखती है जो अपनी जान देकर भी हमें महफूज़ रखते हैं ये ... Read more

एकांत भाता है मुझे

एकांत भाता है मुझे ■■■■■■■■■■■■■■ शांति का परिवेश यह एकांत भाता है मुझे पर वो फुल साउंड में डीजे सुनाता है मुझे शर्म से यह च... Read more

यहाँ सिर्फ सवाल उठते हैं

जिंदगी से जवाब न मांग यहाँ सिर्फ सवाल उठते हैं काबे मे झोली न फैला मंदिरों में भी बवाल उठते हैं। जिनके सवाल जवाब इंसानों से नहीं... Read more

ज़न्नत मिलती है जब तुम मिलते हो

ग़ज़ल------------------------। वज़्न-222-222-222-2 -------------------------------।। सपना बनके आँखों में पलते हो। दीपक बनके इस दिल ... Read more

फ़लसफ़ा-ए-ज़ीस्त

बराहे-ज़ीस्त, कुछ मन्ज़र, शदीद आएँगे, जज़्बे-तौफ़ीक़, कभी दिल से ना जुदा करना। दौरे-ग़ुरबत-ओ-गर्दिशाँ से, वास्ता हो कभी, रज़ा ख़ुदा की... Read more

बारिश हो जाये,गर्मी तो बहुत है ---आर के रस्तोगी

बारिश हो जाये,गर्मी तो बहुत है | लोगो के जमीर पर धूल बहुत है || लगता है गुलाब सभी को अच्छा | पर उसके दामन में सूल बहुत है || ... Read more

गज़ल

जिन्हें हम याद रखते हैं, हृदय के पाक बंधन से, वो अक्सर दूर रहकर भी, हमेशा पास होते हैं। तरसती आँख से ओझल हैं, यादों से रुलाते जो, ... Read more

क्यूँ?

मिलना नही तो ख्वाब मे आना क्यूँ? बेदाग चेहरे को इतना छुपाना क्यूँ ? जल रहा है पूरा शहर उस आग से, अपना भी ना बचा तो पछताना क्... Read more

इक गलती पर खुद से ही न पराया कीजिए

ग़ज़ल मीटर-222-222-211-222-12 ----------------------------------------- हम व्याकुल हैं तेरे बिन न भुलाया कीजिए। इक गलती पर खुद से ... Read more

उन्होंने ग़ज़ल में मुहब्बत लिखी है

उन्होंने ग़ज़ल में मुहब्बत लिखी है बड़े प्यार से दिल की चाहत लिखी है हमारे लिए तोड़ लायेँगेँ तारे बड़ी खूबसूरत कहावत लिखी है भ... Read more

अरे जाने दो छोड़ो भी

ऐसे मुस्कुराना छोड़ो भी अब यूँ शरमाना छोड़ो भी रूप-रंग है चार-दिनों का इसपे इतराना छोड़ो भी मान लिया तुम अच्छे हो गाल बजाना ... Read more

प्यार के दो मीठे बोल बोलिये तो ---आर के रस्तोगी

यार ! ख़ामोशी का पत्थर तोडिये तो | प्यार के दो मीठे बोल बोलिये तो || दर पे दस्तक दे रही सूरज की किरणे | उठ के बंदे बंद खिड़कियाँ ... Read more

ग़मो का मौसम आना जाना है

उनकी याद दिलो से मिटाना है ग़मो का मौसम आना जाना है।। बोझ मन में फिरते लिए क्यू यूँ क्या मन को ऐसे जलाना है।। ख्वाब में ख... Read more

दिल कहता है तू मेरा रसके-क़मर है

ग़ज़ल मीटर-२२२-२२२-२२२-१२२ ------------------------------------ खोये-खोये रहते हो कैसी डगर है। लगता है हमको मोहब्बत का असर है।। ... Read more

जैसे शरीफ़ उनसा कोई नहीं है

ग़ज़ल-मीटर-२२१-२१२-२२२-१२२ ------------------------------------------- तूने नज़र नमी क्यों खोई नहीं है। लगता जगी रही तू सोई नहीं ... Read more

हर तरह ज़िन्दगी से निभाना पड़ा

हर तरह ज़िन्दगी से निभाना पड़ा हौसलों को सहारा बनाना पड़ा ज़िन्दगी ने दिया ,तो लिया भी बहुत हमको हर हाल में मुस्कुराना पड़ा ... Read more

ये साजिश

ये साजिश आज रब ने खूब की है कली वो केवल अकेली ही खिली है है मेरी जिंदगी खूब रंगीन लेकिन केवल एक मात्र तेरी ही कमी है लगा है आज... Read more

अभी नही

122 122 122 122 अभी नही मगर मिलूंगा जरूर पर मै कभी आऊंगा मौके दस्तूर पर मै जरूरतो को पुरा ही करने के लिए हूँ दूर कुछ हमेशा नही... Read more

दगाबाज

122 122 122 12 दगाबाज होती ये किस्मत नही अक्सर (देखा) ख्वाब होता हकीकत नही नियत जब नही साफ है तेरी तो चाहने मात्र से होती बरकत... Read more

राज अपना

21 22 121 22 2 चल रहा मन मे जो बता भी दो गुनगुना रहे हो सुना भी दो आज मौसम है गर्म बहुत ये क्यूं ए खुदा गर्मी दी वर्षा भी दो ... Read more

दौडाना छोड दे

जिंदगी हर पल दौडाना छोड दे यूं बेफुजूल रोब जताना छोड दे गर लगे डर राह के कांटो से तो मुहोबत के ख्वाब सजाना छोड दे तकलीफो से ह... Read more

ये सांसे रुकी हैं :-

यह सांसे रुकी हैं, निगाहें झुकी हैं। -२ मगर होंठ क्यों रुक गए कहते - कहते ।-२ यह फूलों से पूछो क्या उनकी खता है। क्यों भौरा उन... Read more

उसने रुख़ पर नकाब डाला है

उसने रुख़ पर नकाब डाला है। फिर भी तस्वीर आई आला है !! होता गुमनाम जा रहा है सच ! झूठ का इतना बोलबाला है!! कर्म काले कमाई भी... Read more

गजल

गुल रहने दे,गुलाब रहने दे नन्हे हाथों में किताब रहने दे ये बच्चे कल बदलेंगे दुनिया इनकी पलकों पे ख्वाब रहने दे तुमसे मिलकर हाले... Read more

भले ही जीतने की जंग अब भी जारी है

भले ही जीतने की जंग अब भी जारी है मगर ये हार भी देखो कभी न हारी है गुरूर मत करो शोहरत पे अपनी तुम इतना ये चार दिन की ही मेहम... Read more

तुम से नाता जोड़ा है ---आर के रस्तोगी

मतलब था जिन्दगी से,तभी तो तुम से नाता जोड़ा है | माता पिता को छोड़ कर,मैंने तुम से नाता जोड़ा है || गम इस बात का नहीं मुझे,तुम मेरे... Read more