Skip to content

संदीप यादव
अजगरा,अतरौलिया।
जिला:- आजमगढ़
विधा:- गजल,गीत व मुक्तक ।।

All Postsकविता (1)गज़ल/गीतिका (2)मुक्तक (6)गीत (1)
हिन्दू और मुस्लिम हैं भाई तुम क्या उन्हें लड़ाओगे
जाति और धर्मों का धंधा करके तुम क्या पाओगे, हिन्दू और मुस्लिम हैं भाई तुम क्या उन्हें लड़ाओगे। घूम रहे हो शायद घर में बीबी... Read more
पावन प्रेम ...
प्रेम पाकीजा सा इस रिस्ते को सुनो बदनाम कभी मत करना, प्रीत की जीत जैसी उलझन में खुद को गुमनाम कभी मत करना। चंद ख्वाबो... Read more