Skip to content
उड़ता पंछी
मैं , उड़ता पंछी दूर -दूर उन्मुक्त गगन तक फैलाकर अपनी पाँखें उड़ता हूँ कभी अटकता कभी भटकता पाने को मंजिल इच्छाएँ ,आकांक्षाएँ बढती जाती... Read more
सवेरा
उठो ,जागो मन हुआ नया सवेरा आ गए आदित्य लिए आशा किरन नई रमता जोगी गाए मल्हार झूम रहे खग वृंद नाचे गगन अपार कलियाँ... Read more
जिंदगी
जिंदगी क्या है ? समझ न पाई कभी लगती है कभी अबूझ पहूली सी कभी प्यारी सहेली सी कभी खुशनुमा धूप सी कभी बदली ग़मों... Read more
दीपावली
लो आई फिर दीपावली चलो ,इस बार मन के किसी कोने में दीप जलाएं इक शांति का , प्रीती का , स्नेह का फिर इस... Read more
मेरा बचपन
वो बस्ता लेकर भागना सखी सहेलियों से कानाफूसियाँ भागदौड में चप्पल टूटना नाश्ते के डब्बे कपड़ो पर स्याही के धब्बे माँ से छुपाना ओक लगाकर... Read more
पिंजरे की मैना
पिंजरे की मैना ये किसे सुनाये दास्ताँ दिल की कितनी खुश थी पेड़ों पे वो दिन भर चहकती रहती थी इस डाल से उस डाल... Read more
दूसरा पहलू
देखा पलट के पीछे की ओर था नज़ारा वहाँ कुछ और होठों पे थी मुस्कान जैसे ओढ़ी हुई उस के पीछे छुपा दर्द भी देखा... Read more
मन
उड़ चल रे मन कर ले अपने सपनों को पूरा देखे थे जो तूने कभी मत देख आसमाँ को बन्द कमरे की खिड़की से चल,बाहर... Read more
फर्क
बंगले में रहने वाली मेमसाब से पूछा महाराज ने आज क्या बनेगा ? पालक पनीर या शाही पनीर बिरियानी और खीर ? मेडम बोलीं बना... Read more
संज्ञा
जी हाँ, संज्ञा हूँ मैं। व्यक्ति या वस्तु? कभी-कभी ये बात सोच में डाल देती है रूप है, रंग है आकार भी है दिल भी... Read more
रिश्ते
बडे़ अजीब होते हैं रिश्ते कुछ बने बनाए मिलते हैं तो कुछ बन जाते हैं और कुछ बनाए जाते हैं स्वार्थ पूर्ती के लिए कैसे... Read more
लोग
बंद किवाड़ो की दरारों से झाँकते लोग दीवारों से कान लगाकर कुछ सुनते -सुनाते लोग लगाकर उसमें नमक -मिरच किस्से घडते -घडाते लोग शब्दों केअभेद्य... Read more
बंधन
रक्षा का बंधन बंधन अनोखा शहद में भीगा मीठा-मीठा रसीले आम सा जिसमें भरा है जीवन रस कितने सुहाने थे बचपन के वो पल गुजा़रे... Read more
झूला
एक वृक्ष कटा साथ ही कट गई कई आशाएँ कितने घोंसले पक्षी निराधार सहमी चहचहाहट वो पत्तों की सरसराहट वो टहनियाँ जिन पर बाँधते थे... Read more
वक्त
ये तो वक्त -वक्त की बात है कभी मिलता है ,तो कभी मिलाता है कभी खा़मोश सा बैठाता है कभी कहकहे लगवाता है तो कभी... Read more