Skip to content

कर्तव्य से प्रशासनिक अधिकारी एवं हृदय से कला प्रेमी।आठ वर्ष की उम्र से विभिन्न विधाओं में मंच पर सक्रिय । आकाशवाणी में युवावाणी कार्यक्रम में कविता पाठ,परिचर्चा में अनेक कार्यक्रम प्रसारित। भिन्न भिन्न प्रतिष्ठित पत्र पत्रिकाओं व समाचार पत्रों में लेख व कविता प्रकाशित। साहित्यपीडिया के माध्यम से पुन: कला से और कलाकारों से जुडने के लिए हृदय से आभारी हूं ।

All Postsकविता (6)मुक्तक (12)कहानी (1)
भक्ति
धर्म स्थान पर जाकर कब भक्ति हम कर पाते हैं हम तो अपने लिए भगवान को रिझाते हैं ... कभी मिठाई कभी चादर/वस्त्र चढाते हैं... Read more
मन की गति
मन की गति, कभी हिरनों सी कुलांचे मारती गिलहरी सी फुदकती कहीं खुशियाँ बिखेरती अपनी ही मस्ती में मदमस्त होती मन की गति। और कभी... Read more
स्त्री
स्त्री ..... अक्सर तुनकमिजाज सी लगती कभी बहुत रोती कभी बहुत हंसती। छोटी छोटी चीजों को मचल जाती अक्सर ...... और बडे बडे अभाव झेल... Read more