Skip to content

नाम - तेजवीर सिंह
उपनाम - 'तेज'
पिता - श्री सुखपाल सिंह
माता - श्रीमती शारदा देवी
शिक्षा - एम.ए.(द्वय) बी.एड.
रूचि - पठन-पाठन एवम् लेखन
निवास - 'जाट हाउस' कुसुम सरोवर पो. राधाकुण्ड जिला-मथुरा(उ.प्र.)
सम्प्राप्ति - ब्रजभाषा साहित्य लेखन,पत्र-पत्रिकाओं में रचनाओं का प्रकाशन तथा जीविकोपार्जन हेतु अध्यापन कार्य।

Share this:
All Postsकविता (35)गज़ल/गीतिका (7)मुक्तक (8)गीत (13)दोहे (4)कुण्डलिया (6)हाइकु (1)घनाक्षरी (16)
सुहाग पर्व करवाचौथ
??"सुहाग-पर्व करवाचौथ"?? ?????????? 'प्रियतम' पावन प्रीत हमारी निर्मल गंगाजल सी। रहूँ 'प्रेयसी' सदा तुम्हारी आचमनी अंजल सी। मैं तुलसी बन कर के महकूँ तेरे घर-आंगन... Read more
#गुरुग्राम रेयान हत्याकांड
गुरुग्राम के 7 वर्षीय अबोध की हत्या के विरोध में उपजे 'तेज-जहरीले मनोभाव।' ?????????? गुरूग्राम को किया कलंकित, शिक्षा की इक शाला ने। एक चिराग... Read more
श्रीराधाष्टमी पर्व...
? जय जय श्रीराधे ? चराचर जगत कूं ब्रजबल्लभा ब्रजस्वामिनी रसिकप्रिया ''श्री राधेजू'' के प्राकट्योत्सव '' श्रीराधाष्टमी पर्व '' की अनन्त मङ्गल कामनाएं एवम् कोटानिकोट... Read more
बल्देव छठ.....???
?? ब्रज के राजा हलधर गदाधारी श्री दाऊजी महाराज के प्राकट्योत्सव की अनन्तानन्त बधाइयाँ ?? ????????? भाद्रपद शुभ मास शुक्लपक्ष षष्ठी तिथि ब्रज में उल्लास... Read more
जमना पुलिन आजु...
?? घनाक्षरी ?? जमना पुलिन माहिं आजु खड़े चन्द्रकांत राह तकें राधिका की धीर नांहि धारते। पूछ-पूछ गोप-ग्वाल मुरली में देत ताल स्वामिनी कौ नाम... Read more
?स्वाधीनता दिवस एवम् श्रीकृष्ण जन्माष्टमी?
?? मनहरण घनाक्षरी ?? ?????????? सत्तरवीं वर्षग्रन्थि देश की स्वाधीनता की गौरवमयी पल है अटूट विश्वास है। देश के शहीदन कूं वंदन-नमन् करौ बिनकी शहादत... Read more
? रक्षाबंधन पर मुक्तक..... ?
?? सभी स्नेही स्वजनों को पावन प्रीत पर्व ''रक्षाबन्धन'' की कोटानिकोट बधाइयाँ। ?? ✏ विधा- मुक्तक(16-14) ?????????? शुभ मङ्गलमय पर्व सभी को, शुभ मङ्गलमय बेला... Read more
? शुभ रक्षापर्व ?
?? शुभ रक्षापर्व ?? ????????? येन बद्धो बलि राजा दानवेन्द्रो महाबलः तेन त्वां प्रतिबद्धामि रक्षे माचल्माचला। सूत्र पाठ सह बंधे मौलि निज भ्रात कर बने... Read more
? माँ ?
? माँ ? ?? गीत ?? ?तर्ज- तुझे सूरज कहूँ या चन्दा..... जग में सब शीशमहल सा माँ होती सच्चा मोती। सुख-दुःख सहकर जो पाले... Read more