Skip to content
सूर्य चालीसा
जय जय जय हे दिनकर देवा। नित निःस्वार्थ हो करते सेवा।।1।। तुम ने ही जग उज्जवल कीन्हा। नित नूतन किसलय प्रभु दीन्हा।।2।। सकल जगत तुम... Read more
योगी चालीसा
.... ?योगी चालीसा? दो० योगी अपने कर्म से,सदा करो प्रकाश। जन जन में अब न्याय की,जगी है अनुपम आस।। ??चालीसा?? जय जय योगी धर्म प्रकाशा,... Read more
जियो चालीसा
जय जय जियो डाटा के सागर। भारत भू पर हुए उजागर।। मुफ्त सभी को डाटा दीन्हे। बात फ्री में सब जन कीन्हें।। निशदिन रहत सदा... Read more
कह डालो
मोहब्बत पार कर जाये अगर हद राज कह डालो। कसक गर रह गयी दिल में तो वो भी आज कह डालो।। सुना है घाव इस... Read more
गजल
???गजल??? कभी दिल करे पास आया करो। अपने नाचीज को आजमाया करो। झेल जाओगे है ये जमाना बुरा। देख कर के कोई चीज खायां करो।... Read more
भारत माता
गंगा सी पावनता जिसमे,सरयू सी पहचान है। कंठ में जमुना जैसी कल कल,सरस्वती सी ज्ञान है। जिसके अंक में पड़ी नर्मदा,केश गंडकी बसती है। ऐसे... Read more
होठ की लाली
सुबह के सूर्य के जैसे,तेरे होठो की लाली है। किसी सावन की बदली सी तेरी ये जुल्फ काली है।। सुखद मकरन्द के जैसे जहाँ से... Read more
दोस्ती
वो पैसे के है सौदागर,हम दिल से काम करते है। ज़माने में है कुछ जालिम,जो जग बदनाम करते है। हमारी खुसनसीबी है मिला जो आप... Read more
अनमोल माँ
मेरी माँ है जग से न्यारी, हम को जाँ से प्यारी है। देव् तुल्य है देवी माँ जो , हम को धरा उतारी है।। रात... Read more