Skip to content
--दोहे--
--दोहा-- उपदेशकों की कमी न,अनुसरण करें नहीं। जो अनुसरण करें सभी,तो स्वर्ग मिले यहीं।। ---------- --दोहा-- आदत अच्छी ख़ुश रखे,सुबह और शाम है। ख़ुशी तो... Read more
--माल्या नीरव ये--
कभी माल्या नीरव ये,कर रहे घोटाले। बैंक योजना ख़ूब है,रोकड़ा सम्भाले। रोकड़ा सम्भाले,हज़ारों वाले पीड़ित। करोड़ों वाले ना,लगता नहीं यार उचित। सुन प्रीतम की बात,व्यवस्था... Read more
--सुख का मंत्र--
सुन प्रीतम की बात *************** फूलों-सी हँसी रखिए, दिन रंगीन होगा। ख़ुशबू सांसें रहेंगी, तस्व्वुर हसीं होगा।। तस्व्वुर हसीं होगा, सफल सभी कार्य होंगे। मिलेंगे... Read more
--ग़ज़ल--
मापनी..2122-2122-12122 ************************* रदीफ़..देखा क़ाफिया..क़सूर..सरूर..नूर..हुज़ूर.. ज़रूर.. गरूर..दूर जान आँखों में ग़ज़ब का क़सूर देखा। आज हमने प्यार का फिर सरूर देखा।। (मत्ला) झुक गई ये यूँ... Read more
नमो नमःनमो नमःशिवम्
सुन प्रीतम की बात -----------------------छंद कुंडलिया शिवम् की अराधना है, मंगल की कामना। महाशिवरात्रि पर्व है, भरता प्रेम भावना।। भरता प्रेम भावना, कीजिए व्रत श्रद्धा... Read more
--अच्छी बात नहीं--
वादा कर भुलाना अच्छी बात नहीं। दिल कोई दुखाना अच्छी बात नहीं।। अर्श पर बैठा ज़मीं पर गिराया है। नज़र मिला चुराना अच्छी बात नहीं।।... Read more
ग़ज़ल
मापनी..2212--2212--212 सब लोग हैरांं से करें हैं मुझे। तेरा दिवाना ये धरें हैं मुझे।। तुम क्या सिखाती हो इन्हें हाय रे! राँझा कहें सब ही... Read more
नज़ारे सफलता के
प्रकृति में देखिए चलके नज़ारे सफलता के। मायूस न हो यार आएंगे दिन सबलता के।। फूलों से हँसना कलियों से सीखें मुस्क़राना। नदियों से गतियाँ... Read more
---बचके था रहना---
शरमा गई वो,घबरा गई वो। नज़र रब्बा नज़र,टकरा गई जो।। उलझी पहेली,चली वो घर से। गुज़री बग़ल से,हँसती गई वो। शरमा गई.......... भोला चेहरा,ज़ालिम अदाएँ।... Read more
उल्फ़त का आग़ाज़
उल्फ़त का आग़ाज़ हो गया ************ नज़रों से नज़रें मिलाना अन्दाज़ हो गया है। समझिए दिल में उल्फ़त का आग़ाज़ हो गया है।। इन मस्ती... Read more
अपनाओ अहिंसा
सुप्रभात मित्रों *********** हिंसा के कारण सुनो, झुलसता देश-मान। निज स्वार्थ के ख़ातिर यूँ, खोते क्यों सम्मान।। खोते क्यों सम्मान, बड़ी है मानवता रे। संविधान... Read more
उम्मीद का दामन
इश्क़ में उम्मीद का दामन,छोड़िए न भूल से यारा। डूबते को मिल जाता कभी,यूँ ही तिनके का सहारा। क़िस्मतों के खेल हैं होते,अनोखे हैं ग़जब... Read more
शेरो-शायरी
अहसास ज़िंदगी के सांझे करने चला हूँ। कोई कहता बुरा हूँ कोई कहता भला हूँ। सबका अपना-अपना नज़रिया है प्रीतम, चाँद को कोई दाग को... Read more
दहेज़ निषेध
दहेज़ लेना देना अच्छा नहीं। लोभ से बना रिश्ता सच्चा नहीं ।। पूछते क्यों लोग ये घर से क्या लाई। क्यों न पूछते वो छोड़के... Read more
ग़ज़ल
बहर..1222-1222-122 ******************** रदीफ़.. बुरा है काफ़िया.. ग़म-दम-नम-कम-सम-हम-तम हमें यूँ ना सताओ ग़म बुरा है। सुनो तुम बिन हमारा दम बुरा है।। कभी जी ना सकूँगा... Read more
तीन तलाक मामला
लोकसभा में पास हो,राज्यसभा में उलझ। तीन तलाक मामला न,पाया अब भी सुलझ।। पाया अब भी सुलझ,अच्छा कार्य क्यों रुकता। राजनीति का पेंच, स्वार्थ की... Read more
बुजुर्गों की छत्रछाया तले
(*******************************) हरिगीतिका ...छंद ******************************* बुजुर्गों की छत्रछाया तले संस्कार हृदय पलें। शुभ आशीषों से ग़म कोशों दूर हैं भैया टलें।। मान दीजिए सदा ही कभी... Read more
चेहरा आईना है
चेहरा आईना है राज न छिपाइए। सत्य बोलके सभी का मन तू लुभाइए।। काठ की हांडी बार-बार नहीं चढ़े है। गाँठ बाँध लेना अगर बंधु... Read more
रात की बात
रात मैंने देखा,एक ख़्वाब सुहाना-सा। आया नज़र मुझको,चेहरा दीवाना-सा।। प्यार से देख मुझे,हँसने लगा गुलाब-सा। फिर झुक किया उसने,आदाब रूहाना-सा।। प्यार से पकड़ा रे,मेरा हाथ... Read more
मैं नया साल हूँ
मैं नया साल हूँ ************ नई-नई बातें,सपने सजाने चला हूँ। मैं नया साल हूँ,गले लगाने चला हूँ। मुस्क़रा मुझे,आईलवयू कहो दोस्तों! इश्क़ में तुमपर ,सब... Read more
ऊँगली न उठा
जिनको दिल के क़रीब समझा यार। उन्हीं ने सीने में खंज़र दिया उतार।। विश्वास की गरिमा तोड़ भूले दोस्त! तोहमत लगा करना चाहा दाग़दार।। सोचता... Read more
जायरा वसीम...सुन प्रीतम की बात
सुन प्रीतम की बात ..जायरा वसीम ****************************** जायरा वसीम से की,जिसने बदसलूकी। इंसानियत से खेली,दुष्ट ने चालाकी।। दुष्ट ने चालाकी,सज़ा का हकदार हुआ। जेल दिखाए... Read more
मोहब्बत की मज़बूरियाँ
पास रहके भी,कितनी दूरियाँँ हैं। ये कैसी सनम,मज़बूरियाँ हैं।। हम दीदार में,दीवाने हुए प्यार में। चुन लिया चाँद,सितारों के हार में। चाँदनी मिली है,चाँद से... Read more
साथ नहीं भूले
भूले हैं हर बात,तुम्हारा साथ नहीं भूले। यार हमें है याद,हम मुलाक़ात नहीं भूले।। हँसके बातें करना,मिलके मुस्क़ुराना। चुपके दबे पाँव आ,आँखें मेरी छिपाना। उन... Read more
क़सम से प्यारी री
सुन प्रीतम की बात..... *********************************** तू लगी प्यारी मुझको,तेरा रूप अनुपम। फूलों ने महका दिया,ज्यों दिले-चमन सुगम।। ज्यों दिले-चमन सुगम,फ़लसफा न तोड़ता रे। प्यार का... Read more
प्रेम की सुगंध
कविता.... प्रेम की सुगंध.... ******************************* प्रेम सर्वोपरि है,दिल से किया कर यारा। प्रेम के मोती हैं,समंदर के दिल की धारा। पर्वत सम बन ज़रा,अडिग होय... Read more
ये मेरा मन
कविता.....रोला छंद में .............कविता..."ये मेरा मन"... सावन सरीखा मन,प्यार बरसाए जाए। धरती यौवन पर,घना है ये ललचाए। बूँद-बूँद मद भरे,हिय मस्ती ले समाए। पागल हो... Read more
रोला छंद.....
रोला छंद ****************************** कभी किसी का हृदय,मत दुखाना सुन यारा। तू ख़ुदा से कम ना,सभी का होगा प्यारा। फूल-सी ख़ुशबू दे,जग से बनेगा न्यारा। मेरा... Read more
कुंडलिया छंद.....सोच-क़िताबें- प्यार.....
"सोच" ****************************** सोच अच्छी रखना तुम,जीवन सुंदर बने। सूरत सीरत नेक हो,प्यार समंदर बने।। प्यार समंदर बने,सब हँस गले मिलें सदा। तारीफ़ कर न थकें,रिश्तें... Read more
सुन प्रीतम की बात....याद रखें सभी
सुन प्रीतम की बात..कुंडलिया छंद ????????????? सभी के लिए ही गलत,धारणा लिए फिरें। काँटें हैं वो लोग रे,फूल कों चोट करें।। फूल को चोट करें,काहें... Read more
बेवफ़ा यार...
बेवफ़ा यार.... ************ निग़ाहें मिलाकर निग़ाहों से दूर कर दिया। पल में प्यार का शीशमहल चकनाचूर कर दिया। जो कहते थे साथी हैं हम सुख-दु:ख... Read more
??>अभिलाषा
जिसे चाहा वो न मिला,रह गई अभिलाषा। प्यार में सब कुछ मिले,ये नहीं परिभाषा।। राधा ने शाम को चाहा,जान से भी ज़्यादा। शाम मिला भी... Read more
प्यार निखारता...छंद कुंडलिया
कुंडलिया प्यार त्याग विश्वास है,दिलों का बंधन है। दूर रहकर भी तड़फ़े,हृदय संवेदन है।। हृदय संवेदन है,प्यार सर्वोपरि जग में। स्वर्ग महसूस करे,पा इसे यारा... Read more