Skip to content

Physics intellect,interested in reading and writing poems,strong belief in God's justice,love for humanity.

All Postsकविता (7)गज़ल/गीतिका (2)मुक्तक (3)शेर (1)कव्वाली (1)
खंड खंड मैं-अखण्ड तुम
।।खंड-खंड मैं,अखण्ड "तुम"।। खंड खंड होता है इंसान संपूर्ण तो सिर्फ़ भगवान खंड खंड क्यों न फिर जीता हर रिश्ते में क्यों वो रीता? काल-खंड... Read more
स्वागत है,,,
01.08.16 नसीब में मिली सिर्फ़ तन्हाई,स्वागत है, बुराई गर है ईनामे भलाई,स्वागत है । लड़ें खुदी से कैसे औ कितना अब ख़ुशी बन गम का... Read more
खत्म होती पर आस नहीं,,
26.07.16 "आस", बिन बह्र कुछ,, नयन भर भर पीता आँसूं, खत्म होती पर प्यास नहीं,, गिरजे,मन्दिर,मस्जिद,ढूंढे बस खुदा खत्म होती पर क़यास नहीं,, झोलियाँ भर... Read more
क्षणिकाएँ---1
25.07.16 क्षणिकाएँ,,,,, * वक्त के साथ चली तो पिछड़ गयी खुद से खुद ही महाभारत लड़ गयी पागलों सा जीवन जीने निकली हूँ अब ख़ुशी... Read more
पलाश का साधुत्व
ऐ पलाश! मैंने देखा है तुम्हें फूलते हुए, देखा है मैंने- तुम्हारी कोंप-कोंप से प्रस्फुटित होते- यौवन को.. मैंने देखा है, तुम्हें वर्ष भर फाल्गुन... Read more
चाहत
shuchi bhavi शेर Jul 18, 2016
18.07.16 तुम्हें टूट कर चाहने की सजा पाये हैं अब भुला कर तुम्हें, टूटने की चाहत है,,, शुचि(भवि)