Skip to content

मैं कोई बहुत बड़ी कवियित्री नहीं हूॅ।हाॅ बस इतना है खुद के विचारों को लोगों तक पहुचाने का छोटा सा प्रयास कर रही हूँ ।अगर मेरे शब्दों में कोई त्रुटि हो ,तो उसके लिए मैं क्षमा चाहूँगी।।
धन्यवाद
शिवांगी शर्मा
shivangisharma316@gmail.com

All Postsकविता (2)
' ये बेटियाँ '
खुशनसीब होते हैं वो लोग जिनके, घर में मुस्कुराती हैं बेटियाँ। कुछ नहीं ले जाती माँ-बाप के घर से, अपनी किस्मत से ही सब कुछ... Read more
' ये बेटियाँ '
खुशनसीब होते हैं वो लोग जिनके , घर में मुस्कुराती हैं बेटियाँ । कुछ नहीं ले जाती माँ बाप के घर से, अपनी किस्मत से... Read more