Skip to content
तमन्नाओं का तेरी अपने दिल को दर बनाता हूँ ... शमशाद शाद की एक लाजवाब ग़ज़ल
तमन्नाओं का तेरी अपने दिल को दर बनाता हूँ हसीं यादें सजा कर वस्ल का मंज़र बनाता हूँ मुसव्विर हूँ तसव्वुर को बदलता हूँ हक़ीक़त... Read more
ग़ज़ल
वो राहे इश्क़ में गर हमइनाँ नहीं होता नसीब मुझपे मेरा मेहरबाँ नहीं होता बयाँ मैं कैसे करूँ तुमसे हाले दिल अपना जिगर का दर्द... Read more