Skip to content
आफत.....
आफत... शाम का वक्त था बाजार की रौनक शुरू ही हुई थी कि मेरा महाविद्यालय से आना हुआ! अचानक ही एक हाय-हैलो वाली सखी सामने... Read more
दायरा...
फुँहारे पड़ी अचानक आँखों का दर्द समझूँ या बारिश का पानी! कह दूँ मन की व्यथा आज फिर तुमसे उबरने को समझूँ या उलझने को... Read more
रह-रहकर वही बात...
अन्तर्मन को कुरेदती रही रह-रहकर वही बात! नहीं हैं भाव गहरे लेकिन कुरेदते-कुरेदते हो गये घाव बहुत गहरे! पहुँचना है उत्तुंग शिखर तक पथभ्रष्ट भी... Read more
हाइकु.. .
हाइकू- . तुम और मैं कागज की है कश्ती दूर किनारा! . पलकें गिरी आँसू किये किनारा तुम और मैं! . साथ मिलता रुकते कुछ... Read more
दोहे....
दोहा... . कउन कहै मन के बात, कउन सुनावै तान| मन कैदी होय गा अब,जब से कीन प्रणाम|| . पूजन अर्चन सब करा, दीन दीया... Read more