Skip to content
ये जाना !
जानू आज रूक जाओ ! घूँघट सँभालते हुए रश्मि ने तिरछी देख ! मुस्कराते हुए कहा ही था कि शुभ ने दबेमन कहा "मुझे जाना... Read more
उचकन ।
क्या ? हुआ रघु ! हॅसते हुए उसके मित्र श्यामू ने पूॅछा ही था कि रघु भी खिल-खिलाकर हॅसते हुए बोला ; भाई बस जरा... Read more
चुगली ।
नंद और भौजाई साथ-2 एक ही जगह नौकरी करतीं थी।एक दिन नंद को पता नहीं क्या सूझा कि भाई से चुगली कर दी, नौबत रिश्ता... Read more
मायका ।
सुरेश शाम घर पहुँचा, सारे टीन-टप्पर इधर-उधर , पड़ोसी व पुलिस खोज में , नजर घूमी तो मालकिन बच्चों के साथ दिखी, आकर धीरे से... Read more