Skip to content

D/O/B- 07/01/1976
मैं पश्चिमी चम्पारण से हूँ, ग्राम+पो.-मुसहरवा (बिहार) वर्तमान समय में दिल्ली में एक प्राईवेट सेक्टर में कार्यरत हूँ। लेखन कला मेरा जूनून है।

Hometown: नरकटियागंज (प.चम्पारण)
Published Books

फिलहाल प्रकाशन में "कुसुमलता" अभिलाषा नादान की
साहित्य संग्रह
अति शिघ्र उपलब्ध... Coming soon...

Awards & Recognition

कोई नहीं

Share this:
All Postsकविता (122)गज़ल/गीतिका (4)मुक्तक (12)गीत (11)लेख (17)शेर (6)लघु कथा (3)कुण्डलिया (8)कहानी (17)हाइकु (2)घनाक्षरी (2)तेवरी (2)
पोंगापंथी सनातन के लिए नासूर
सनातन (हिन्दुत्व) के लिए खतरा बनते अर्द्ध ज्ञानी पंडित। .................................... आज कल केवल छोला छाप डाक्टर ही नहीं अपितु अर्द्ध ज्ञानी पंडितों की भी हमारे... Read more
बड़का भईया (भोजपुरी)
बड़का भईया (समाजिक कुरीति) (भोजपुरी कहानी) -------------------------------------------- अपना बेटवा के हतास मुर्झाईल, चेहरा देख के केतना ब्याकुल रहले फुलेना तिवारी। फुलेना तिवारी अनाम गाँव के... Read more
अधुरी कहानी (रांग नंबर)
अधुरी कहानी (रांग नंबर) ------------------------------------------ ट्रीन..ट्रीन... ट्रीन संजू ने फोन की बजती हुई घंटी को सुन फोन उठाया हेलो..कौन उधर से एक मीठी अत्यंत सुरीली... Read more
ईमानदारी बेचाता (भोजपुरी)
ईमानदारी बेचाता.....!! ------ ------- ------- -------- जेने जाईं ओने, भ्रष्टाचारे भेटाता कौड़ी के मोल, ईमानदारी बेचाता, हाय रे जमाना, अनीतीये के जोर बा नीचे से... Read more
प्रदूषित जीवनशैली ; ऐ कैसी मजबूरी....???
प्रदूषित जीवनशैली; ऐ कैसी मजबूरी....??? ************************************ आज मैं अपने अतिप्रिय हृदयंग अनुज अमरदीप बाबू का भावनाओं से ओतप्रोत एक अत्यंत हृदयस्पर्शी लेख पढ रहा था... Read more
खिन्नता
........खिन्नता...... .......... तुम खिन्न हो मानते नहीं तुम समझते पर जानते नहीं इस समाजिक संरचना से टूटते रीश्तों की याचना से टूटते संयम उसकी प्रकाष्ठा... Read more