Skip to content

1970 से साहित्‍य सेवा में संलग्‍न। अब तक 13 संकलन, 6 कृतियाँँ (नाटक, काव्‍य, लघुकथा, गीत संग्रह, नवगीत संग्रह ) प्रकाशित। 1993 से अबतक 6000 से अधिक हिन्‍दी वर्गपहेली 'अमर उजाला' व अन्‍य समाचार पत्रों में प्रकाशित। वर्तमान में ई पत्रिका 'अभिव्‍यक्त्‍िा-हिन्‍दी-ऑर्ग' पर 2010 से हिन्‍दी वर्ग पहेली निरंतर प्रकाशित। जून 2015 में राज.तक.वि.वि. कोटा से सेवानिवृत्‍त. साहित्‍य सेवा में संलग्‍न.

Share this:
All Postsकविता (18)गज़ल/गीतिका (21)मुक्तक (5)गीत (15)दोहे (3)कुण्डलिया (3)लघु कथा (4)हाइकु (1)
ज्योत से ज्योत जली, हुए तम दूर घने.
आधार छन्द- मंगलवत्थु [मापनी मुक्त] शिल्‍प विधान- 22 मात्रायें(11, 11) यति के पूर्व व बाद में त्रिकल, अंत 2 गुरुओं से (वाचिक) पदांत- दूर घने... Read more
अब भाई बहिन न रूठें किसी त्‍योहार पर
1 कार्तिक माह की शुक्ल पक्ष की द्वितीया है। सर्वकामना पूर्ति का पर्व अद्वितिया है। भाई के प्रति बहिन की स्नेह अभिव्यक्ति का, यम प्रदत्त... Read more
अब भाई बहिन न रूठें किसी त्‍योहार पर
1 कार्तिक माह की शुक्ल पक्ष की द्वितीया है। सर्वकामना पूर्ति का पर्व अद्वितिया है। भाई के प्रति बहिन की स्नेह अभिव्यक्ति का, यम प्रदत्त... Read more
नारी का अपमान न हो, वो सुहाग बना
पदांत- बना समांत- आग जीवन का उत्कर्ष, प्रेम और त्याग बना. सर्वधर्म समभाव सब से, अनुराग बना. मोह, माया, मत्सर से, नहिं हो, तू प्रेरित,... Read more
मन की अभिलाषा
(हिंदी पखवाड़े में हिंदी पर रचनायें) छंद- चौपाई की अर्द्धाली मात्रा भार- 16 हिन्‍दी बने विश्‍व की भाषा स्‍वाभिमान की है परिभाषा। गंगा जमनी जहाँ... Read more
यह चमत्‍कार दिखलाओ
(हिन्‍दी पखवाड़े में हिंदी पर रचनायें ) छंद- कुकुभ (16//14 अर्द्ध सममात्रिक) विधान- (अंत 2 गुरुओं से अनिवार्य-112 या 211 नहीं) पदांत- नया दिखलाओ समांत-... Read more
गणतंत्र
गीतिका ****** पदांत- का गणतंत्र समांत- अत्व आओ मनाएँ स्वतंत्रता-अपनत्व का गणतंत्र. आओ-मनाएँ, सहभागिता-समत्व का गणतंत्र. दिखलाई दे उत्सव, पर्व, त्यो‍हार पर बंधुत्व, आओ मनाएँ... Read more
बेटी
मैं संतुष्ट हूँ माँ के चलने-उठन-बैठने खाने-पीने, नहाने-धोने यहाँ तक कि‍ सोते समय भी उसे ध्यान रहता है मेरे होने का. मुझे पूरा वि‍श्वास है... Read more
कर्मनिष्‍ठ बनना होगा
गीतिका (लावणी छंद) कर्म पथिक जो होना है तो, कर्मनिष्ठ बनना होगा। सत्यजीत जो होना है तो, सत्यनिष्ठ बनना होगा। कंटकीर्ण होती हैं राहें, दिखे... Read more
हिन्‍दी
1 हिंदी के अभियान को, इतना दें सहयोग. लोगों से हर दिन कहें, इसका करें प्रयोग. जनता ही है जनार्दन, जनता ही सरकार जन जन... Read more
विश्व शांति दिवस, अहिंसा दिवस है आज
विश्व शांति दिवस, अहिंसा दिवस है आज। दिल्‍ली में फिर कैंची से गोद कर एक मासूम युवती की हत्या राजस्‍थान में लालबत्‍ती वाली गाड़ी वाले... Read more