Skip to content

जिस तरह समुंदर में लहरों का आना जाना लगा रहता है, इसी तरह मन मन्दिर भी विचारों का आना जाना जाना लगा रहता है , अपने विचारों को सही दिशा देकर परमात्मा की प्रेरणा से कुछ मनोरंजक, प्रेरणादायक लिखने की कोशिश करते रहतीहूँ जिससे मेरा और समाज का सही मार्गदर्शन होता रहे।
"जीते तो सभी हैं,पर मनुष्य जीवन वह सफल है ,जो किसी के काम आ सके "?????

All Postsकविता (20)गज़ल/गीतिका (3)लेख (3)दोहे (1)लघु कथा (1)
*मीठी सी तपिश*
सर्दियों के दिन बादलों की ओट में से निकलती वो मीठी सी तपिश तन को सेकती हल्के से कहती कितनी मीठी है है ये धूप... Read more
**मेरा मसीह**
मेरा मसीह** ***** मैं जो भी करता हूँ, मेरे फ़रिश्ते के कहे ,अनुसार करता हूँ क्या लाभ होगा, मैं नहीं सोचता "मैं" वो करता हूँ... Read more
**कविता**
---------क्या आप मेरी बात से सहमत हैं ? **कविता** ** * * एक अनपढ़ भी कविता रच सकता है क्योंकि कविता आत्मा की आवाज है... Read more
*शुभ संकेत* ??????
? * शुभ संकेत*? पथरीली राहें,मिट्टी की गोद, कभी चिलचिलाती धूप , कभी आँधी-तूफान में रहकर ही एक वृक्ष है फलता-फूलता तभी तो कहते है... Read more
*स्वर्गमयी ऋषिकेश*
स्वर्गमयी ऋषिकेश* *ऋषिकेश* यह वास्तव में देवों की धरती है गौ मुख से प्रवाहित ,गंगोत्री जिसका धाम , अमृतमयी ,निर्मल गँगा माता को मेरा शत-शत... Read more
*सुप्रभात*
*सुप्रभात ** ******** ?वन्दन परमात्मा ,? एक और नयी सुबह नयी-नयी अभिलाषाएं नव निर्माण को एक और क़दम नयी पीढ़ी की नयी सोच संग ,... Read more
*स्वास्थ्य धन*
**स्वास्थ्य धन** * स्वास्थ्य यानी तन-और मन दोनों की सुदृणता * जहाँ *शारीरिक स्वास्थ्य के लिये पौष्टिक आहार ,व्यायाम ,योगा लाभदायक है। वैसे ही मन... Read more
?कुछ तो विशेषता अवश्य है, माननीय प्रधानमंत्री ,मोदी जी मे?
?कुछ तो विशेषता अवश्य है, माननीय प्रधानमंत्री ,मोदी जी मे? ??????? हमारे देश के माननीय, प्रधानमंत्री में कुछ तो विशेषता अवश्य है। माननीय प्रधानमंत्री ,मोदी... Read more
?
? " साहित्य "? साहित्य एक फलदार वृक्ष के सामान है । जिसका लाभ आने वाली पीढ़ी को मिलता है ।। साहित्य वो पौधा है... Read more
? सफर ये कैसा सफर?
? "सफ़र ये कैसा सफ़र"? " दुनियाँ एक सराय हम मुसाफिर आँख क्यों न भर आये ,पहले बता परमात्मा ?तुमने जज़्बात क्यों बनाये? "चाह थी... Read more