Skip to content
शिकायत
अगर अपना समझो, हाथ बडा कर तो देखो। अपना बना दिल की बात सुना कर तो देखो। खामोश रहना, लबों से कुछ ना कहना, भीगी... Read more
शिकवा
किस बात का है शिकवा ना पूछ, मेरे मौला मुझसे यह सवाल ना पूछ। कैसे बनते हैं फूल, कलीयांँ गुलाब की, यह राज़ मुझसे, मेरे... Read more
बीटीया
बाहों में झुलाया, गोदी में खीलाया । सिने पर सुलाया, पीठ पर खिलाया । खुद रो कर , तुझको हसाया । कांटों से बचाया, मल-मल... Read more