Skip to content

परिचय : कवि रमेशराज
——————————————————
पूरा नाम-रमेशचन्द्र गुप्त, पिता- लोककवि रामचरन गुप्त, जन्म-15 मार्च 1954, गांव-एसी, जनपद-अलीगढ़,शिक्षा-एम.ए. हिन्दी, एम.ए. भूगोल
सम्पादन-तेवरीपक्ष [त्रैमा. ]सम्पादित कृतियां1.अभी जुबां कटी नहीं [ तेवरी-संग्रह ] 2. कबीर जि़न्दा है [ तेवरी-संग्रह]3. इतिहास घायल है [ तेवरी-संग्रह
एवम् 20 स्वरचित कृतियाँ | सम्पर्क-9634551630

Share this:
All Postsकविता (31)गज़ल/गीतिका (5)मुक्तक (12)गीत (11)लेख (157)दोहे (7)कुण्डलिया (1)लघु कथा (2)कहानी (2)हाइकु (2)तेवरी (37)
रमेशराज के प्रेमपरक दोहे
तुमसे अभिधा व्यंजना तुम रति-लक्षण-सार हर उपमान प्रतीक में प्रिये तुम्हारा प्यार | +रमेशराज +मंद-मंद मुसकान में सहमति का अनुप्रास जीवन-भर यूं ही मिले यह... Read more
तेवरी
हिंसा से भरा हुआ नारा अब बोले धर्म बचाना है हर ओर धधकता अंगारा अब बोले धर्म बचाना है | जो कभी सहारा नहीं बना... Read more
तेवरी
जिनको देना जल कहाँ गये सत्ता के बादल कहाँ गये ? कड़वापन कौन परोस गया मीठे-मीठे फल कहाँ गये ? जनता थामे प्रश्नावलियां सब सरकारी... Read more
तेवरी
गुलशन पै बहस नहीं करता मधुवन पै बहस नहीं करता जो भी मरुथल में अब बदला सावन पै बहस नहीं करता | कहते हैं इसे... Read more
तेवरी
खुशियों के मंजर छीनेगा रोजी-रोटी-घर छीनेगा | है लालच का ये दौर नया पंछी तक के पर छीनेगा | हम जीयें सिर्फ सवालों में इस... Read more
साक्षात्कार एक स्वास्थ्य मंत्री से [ व्यंग्य ]
आज हम आपको जिस स्वास्थ्य मंत्री से साक्षात्कार करा रहे हैं, इनका स्वास्थ्य पिछले वर्षों में महाजन के सूद की तरह दिन दूना और रात... Read more
व्यंग्य
पुलिस बनाम लोकतंत्र +रमेशराज -------------------------------------------------- लोकतंत्र में पुलिस की भूमिका को नकारा नहीं जा सकता। अब आप कहेंगे कि लोकतंत्र से पुलिस का क्या वास्ता!... Read more
कहानी
अजगर +रमेशराज --------------------------------------------------- आप जि़द कर रहे हैं तो सुना ही देता हूं कि मुझे इन दिनों एक रोग हो गया है, सिर्फ अपनी बेरोज़गारी... Read more
कहानी
वक़्त एक चाबुक है +रमेशराज ------------------------------------------- पारबती है ही कुछ ऐसी, भूख से लड़ती है, भूख और बढ़ती है। गरीबी उसकी विवशता का जितना ढिंढोरा... Read more
तेवरी
मैं भी अगर भाट बन जाता गुण्डों को सेवक बतलाता | कोयल के बदले कौवों को सच्चा स्वर-सम्राट सुझाता | सारे के सारे खलनायक मेरे... Read more