Skip to content
उपहार
' मैं तुम्हारे प्यार में पलता रहूँ ' -- तो ठीक होगा । ज़िन्दगी अभिशप्त थी, खामोशी थी प्यासी-जवानी, अश्रु-कण जब लिख रहे थे, वेदनाओं... Read more