Skip to content

लेखिका राजश्री गौड़ बीए बीएड़
जन्मतिथी24-11-56.
पिता --श्रीभीमसेन पराशर
माता -श्रीमति जयदेवी पराशर
साहित्यिक सम्मान--नारीगौरव,भारत की प्रतिभाशाली कवयित्रियाँ ,
प्रेम काव्य सागर , काव्यश्री सम्मान।

All Postsकविता (8)गज़ल/गीतिका (7)
नैतिक मू्ल्य
नैतिक मूल्य रहे कहाँ इन्सानों में मानव भटका स्वार्थ के तानोंबानों में। आदर्शहीन,अवसाद पूर्णजीवनसब जीते, कुकृत्य और हिंसा का गरल सब पीते । रक्षक ही... Read more
पिया याद रखना
जाते हो जाओ, पर याद रखना, राह की मेरे पहचान रखना । आये जो सावन पिया मन-भावन, बरसेंगे बदरा तरसेंगे नयना, भीगेगा तन-मन,पिया य़ाद रखना।... Read more
प्रीत बावरी
भोली-सी ये प्रीत बावरी, मन मेरा भरमाती है । पी' आयेंगे, चुपके चुपके, कानों में कह जाती है । स्वप्निल नैना द्वार निहारें, मुख पर... Read more
एक औरत
-----एक औरत---- एक औरत... जब अपमान, तिरस्कार सहते सहते क्षुब्ध हो जाती है, बटोर कर अपने सभी टुकड़े पलायन करना चाहती है तो----- फेरों की,... Read more
मेरी बेटी---मेरी य
------मेरी बेटी---मेरी दुनिया------ तुम कल भी मेरी दुनिया थी, तुम आज भी मेरी दुनिया हो। जब जन्मी तुम मेरे आँगन में, मेरा सूना जीवन चहक... Read more