Skip to content

योग्यता-M.sc (maths)
संगीत;लेखन, साहित्य में विशेष रूचि
"मुझे उन शब्दों की तलाश है;जो
सिर्फ मेरे हो।"

All Postsकविता (6)गज़ल/गीतिका (15)मुक्तक (3)गीत (1)शेर (1)लघु कथा (3)कहानी (1)हाइकु (1)
कर सकोगे
"कर सकोगे चलो मेरे अनुनाद का अनुवाद कर दो मेरे शब्दों में न सही अपने ही शब्दों में कर दो कर सकोगे,; देखो मै कविता... Read more
संयोग
"मम्मा !मै कुछ नहीं जानती ,आज हमारे ओल्ड ऐज होम को पूरा एक साल हो गया है,आज तो आपको मेरे साथ चलना ही होगा!" "हाँ... Read more
गजल
"लहरों को पतवार करोगे, तो खुद को मझधार करोगे। साथ न देगा कोई भी जो, बार-बार इनकार करोगे। मनमर्जी कर आज मिटा दो, फिर इक... Read more
सब्र
"सब्र बरसों का इक पल में जाया हुआ। माज़ी था, सामने वो दबाया हुआ। आलमे बेबसी थी,वो कुछ इस कद्र, इक अकेला किनारा, डूबाया हुआ।... Read more
वो चेहरा
"शराफत का करामाती ताला है सीरत पर" "अनजान सी नज़रें है लेकिन मुस्कान भी है" "उम्मीद देता हर आते जाते को फ़क़ीर मन! "हर मौसम... Read more
कसक
"यक़ीनन यूँ तो बात आती नहीं, कसक बस ये आँखे जताती नहीं। सभी खिड़कियाँ है,खुली सी मगर , हवा भी गुजरकर सताती नहीं। निगाहों में... Read more
बेटियाँ
"नींव है परिवार,आँगन,जोड़ती है बेटियां, पर कही अपने ही हक़ को जूझती है बेटियां। शोर सन्नाटे का,पत्थर पर उभरते नक्श सी, पंख लेकर आसमां को,चीरती... Read more
तोहफा
लघुकथा *****तोहफा******* आज शोभा बहुत खुश है ,आज उसका बेटा गौरव पूरे 10 साल का हो गयाहै!समय कैसे गुजरता चला जाता है,कुछ पता नहीं चलता,जैसे... Read more
क़रार
"मै पूछता हूँ आइने से ,क्या तुझे है ये खबर! करार खो गया कहाँ,कि अजनबी हुई नज़र! बदल दिया जरा से इश्क ने मेरा वजूद... Read more
जिंदगी
"इक उम्र जिंदगी से मिलाती चली गई, दामन में सख्त गिरहें लगाती चली गई, दुनिया के रंगमंच पर अभिनय बहुत किया, ये कोशिशें ही आस... Read more
इंसान
अब सच्चा इंसान नहीं है। करे छलावा मान नहीं है। खेल हो रहा मानवता से, कोई भी अनजान नहीं है। मोल चुका सकता है सुख... Read more
राजनीति
"कुर्सियां हो गयी जीत दमदार की, ऐसे जनता बनी नींव जनाधार की। ******** "भीड़ भारी है संसद में भी आजकल, उसमें सुनता नहीं कोई लाचार... Read more
देर तक*
"वक़्त ने पहले सताया देर तक, आस ने लड़ना सिखाया देर तक, अर्जियों ने मेरी खुलकर बारहा, आस का दर खटखटाया देर तक। कुछ कहाँ... Read more
गलती
********"गलती"*********** "मैंने कितना सोचा, इस बारे में, ये सवाल है, जवाब तो तलाशना ही होगा, फिर एक सांचे में ढाल के सोचा, अंदर -बाहर हुआ,... Read more
बारिश
बारिश में बरसो बरस अपने , ख्वाबों की धनक, खुद में समेटे, मै चली जा रही थी, कि अचानक से नज़र ठहर गयी, हाथों से... Read more
ढूंढ़ते है*
*****/ढूंढते है/******* मावस में पूनम की, सहर में शबनम की, निशानी ढूंढते है। दर्पण में श्रंगार की, नजरों में प्यार की, रवानी ढूंढते है। रिश्तों... Read more
गजल-2
-------------- बेखुदी में गुनगुनाना चाहिये। वक़्त से लम्हा चुराना चाहिये। -------------------- जो इशारों में सदा जाहिर हुए आज लफ्जों को ठिकाना चाहिये। ''''''''"""""""'''""" क्यूं दी... Read more
अशहार
"सब को अपने जैसे रखना, होंठों पे मत शिकवें रखना,। ************** लौट सभी आयेंगे अपने, खुले हुए दरवाजे रखना। ************ बस न जाये फ़ज़ा में... Read more
बेटियां
"पुनीत जी आपकी बेटी बहुत प्रतिभावान है ,उसे अच्छे से अच्छे कॉलेज में बार बार कह रही थी। आज मेरी बेटी नेहा बारहवी की परीक्षा... Read more
ख़त
************ "हुई दस्तक दरारों से,निकलकर इंतजार आया, खुली है खिड़कियाँ देखो,किसी अपने का तार आया।" --------------------- "लिफाफा बंद जैसी बेपता सी जिन्दगी ये थी, वो... Read more
गजल
"किसी दिन सामने सच बनके आओ। कभी तुम ख्वाबों के चिलमन हटाओ। धड़कती है हवाओं में मुहब्बत, हमारी दास्ताँ उनको सुनाओ। निकल पाते नहीं जो... Read more
बेटियाँ
"बेटियां" "बेटा हो या बेटी है दोनों खुशियों की पेटी, "वारिस के नाम पे तुमने कैसे माँ की कोख बाटीं, ये मत भूलो करवाके कन्यादान... Read more
राखी
**************** "एक डोर, दो बंधे जिससे छोर, रेशा- रेशा जिसका चित्तचोर, रोली-अक्षत की खुशबू इसमें, बंधते है जिससे वचन कठोर। 'बसती इसमें है मासूम जिद,... Read more
आदमी
"खुद से है बेखबर होशियार आदमी, होड़ की दौड़ में है हजार आदमी। "संग अपने पराये चले हर डगर, फिर भी तन्हाइयों का शिकार आदमी।... Read more
"ये तीन रंग की धरा, केसरिया ,श्वेत,हरा। आँचल में इसके नदियाँ बहती, गंगा,जमुना,सरस्वती। हिन्द ,अरब,प्रशांत का, कदमों में संगीत भरा। ये तीन रंग..... राम,कृष्णा,अल्लाह ,गुरुनानक,... Read more