Skip to content

"कुछ नया और बेहतर लिखने की चाह......"
राजेश बन्छोर "राज"
जन्मतिथि - 05 जून 1972
शिक्षा - सिविल इंजीनियरिंग में डिप्लोमा
सम्पर्क - वार्ड-2, पुरानी बस्ती
हथखोज (भिलाई),पोस्ट - सुरडूंग, जिला - दुर्ग, छत्तीसगढ़ 490024
मो. नं. - 7389577615
प्रकाशन संदर्भ - पत्र-पत्रिकाओं में समय-समय पर कविता, कहानी प्रकाशित

All Postsकविता (8)शेर (1)
खूनी गीत
************************* जब भी मैंने कलम उठाया ! लिखने को कोई गीत नया !! कलम मेरे रूक जाते हैं ! विचार लुप्त हो जाते हैं !!... Read more
तुम्हारे लिए
********************* जन्मदिवस के रूप में यह दिन सुहाना आया है हर दिल पर रंगी रौनक है आंखों में मस्ती छाया है भगवान करे, दस्तूर चले... Read more
********************* साथी चल कुछ कर दिखलाएँ अमन-चैन के गीत सुनाएँ शोषण, घुसखोरी, गद्दारी अन्याय, अनाचार, भ्रष्टाचारी गली-गली नफरत का जहर द्वार-द्वार मच रहा कहर मिलकर... Read more
अपनी सांसों में उर्जा भरकर निर्माण जो करता नवयुग का औरों को सुख-सुविधा देकर करे सामना हर दुख का जो रूके अगर, रूक जाए दुनिया... Read more
*******************दीवाली सा हर दिन लगे और दशहरे सी रात ! होली जैसी दोपहरी हो रोज खुशी की बात !! पर आज दीया जले आगजनी सा... Read more
अन्याय हुआ शोले उठे अब सभी शोर रूक जाएँगे ! सात दशक आजादी के जैसे फिर बहार चमन में आएँगे !! शहीद हुए जो मातृभूमि... Read more
ललकार हमें न ए जालिम अब हमें नहीं सहना है ! खबरदार ए सरहदपार कश्मीर हमारा अपना है !! मत दोहरा इतिहास भूल से इतिहास... Read more
RAJESH BANCHHOR शेर Jan 29, 2017
फूल खिलते रहेंगे यह सोचकर खुश था मगर दुख इस बात का, कि रौंदी जा रही मासूम कलियाँ