Skip to content

प्रकृति, पर्यावरण, जीव दया, सामाजिक चेतना,खेती और कृषक की व्यथा आदि विषयों पर दोहा, कुंडलिया,चोपाई,हाईकु आदि छंद बद्ध तथा छंद मुक्त रचना धर्मिता मे किंचित सहभागिता.....

All Postsकविता (2)दोहे (3)कुण्डलिया (4)हाइकु (11)
हाईकु एकादश
संसार के सर्वोच्च योगी वीतरागी दिगम्बर संतो के चरणों मे कोटि कोटि नमन करते हुए प्रस्तुत है उनकी महिमा मे इस लघु कवि का अल्प... Read more
हाईकु एकादश
आज के हमारे अभी अभी के हाईकु सादर... स्वप्न हाईकु-एकादश १ स्वप्न का लोक बहुत सुहाना है पल भर का। २ वास्तविकता सपने टूटते है... Read more
हाईकु-एकादश
हालातों की जब भी बात हुई किसान की हालत किसी से छिपी नही है इतिहास बताता है विदेशियों के आने के पूर्व यहाँ सभी कुछ... Read more
हाईकु अष्टक
आज के दिन पर देखिए हमारे हाईकु कुछ इस तरह हाईकु-अष्टक १ प्रेम ही पूजा प्रेम के लिए लिखें प्रेम समझ २ प्रेम जब ही... Read more
कुँडलिया छंद
[12/2, 12:23 pm] राजेंद्र जैन 'अनेकांत': आज वन, वन जीव पर्यावरण से अत्यधिक प्रभावित है यहाँ तक की कई प्रजाति तो विलुप्ती के कगार पर... Read more
दोहे-एकादश
बसंत(फागुन) पर देखिए हमारा प्रयास.... दोहे-एकादश शरद विदाई शुभ घड़ी, ऋतु बसंत महकाय। सुरभित सुमन सुवास नभ, सुरमय कंठ सुहाय।। २ रँग बसंती चूनरी, देख... Read more
हाईकु
आज के हमारे हाईकु देखिए कुछ इस तरह चुंबन प्रेम हाईकु-पंच १ चुंबन प्रेम भारत मे जानिए पवित्रतम २ देश प्रेम है शहीदों का चुंबन... Read more
भूकम्प
भूकंप पर हमारे भाव सादर... कुंडलिया-छंद ईश्वर तेरे द्वार पर, ये कैसा अंधेर। जीवन की आशा जहाँ, पर लाशों का ढेर पर लाशों ढेर। देखिए... Read more
हाईकु-पंच
आज के हमारे हाईकु कुछ इस तरह सादर... हाईकु-पंच १ भ्रम मे जीते जीवन मे तनाव गले के फीते २ अनेकांत है समझिए तो सही... Read more
निज कर्म
कर्तव्य(कर्म)पर हमारी आज की रचना कुछ इस तरह देखिए...... निज-कर्म करो नित काम मिले तब दाम बने सब काम जपो प्रभु नाम तभी सुख चैन... Read more
बसंत पर दोहा एकादश
बसंत पर देखिए हमारा प्रयास.... दोहे-एकादश शरद विदाई शुभ घड़ी, ऋतु बसंत महकाय। सुरभित सुमन सुवास नभ, सुरमय कंठ सुहाय।। २ रँग बसंती चूनरी, देख... Read more
हाईकु-एकादश
आज देखिए हमारे हाईकु कुछ इस तरह हाईकु-एकादश १ पहला प्यार बसंत उपहार जीवन खुश २ जीवन साथी प्रेम गठबंधन मजबूत हो ३ सुख का... Read more
दुमदार दोहे
आज देखिए हमारे कुछ दुमदार दोहे... दुमदार दोहे... १ लोकतंत्र जब देश मे, भीड़तंत्र बन जाय। सही गलत की सोच तब, भीड़ में ही खो... Read more
हाईकु-छंद
१ सच्ची जिंदगी पापाचरण तज अच्छी वंदगी २ व्यसन त्यागें गुणों मे श्रेष्ठतम वे रहें आगे ३ जिंदगी जीत कर्तव्य पथ पर सभी से प्रीत... Read more
हाईकु-पंच
आज के हमारे हाईकु देखिए कुछ इस तरह.... हाईकु-पंच १ हम जो लिखे नाम के लिए तब क्षणिक सुख २ हम क्यो लिखें कुछ दाम... Read more