Skip to content
होली
चली फागुनी बयार बावरा मन हुआ तैयार शोर शराबा हल्लम हुल्ला ढप गीत धमाल गली गली पिचकारी की धार गुब्बारे की मार छुपते छुपाते बचता... Read more
माँ शारदा उपकार दे!
हे विद्यादायनी अमृतज्ञान प्रदायनी इसबार वरदान दे! संसार पर निज उपकार दे! हर राज्य ग्राम देश मे फैला हुआ है आतंकवाद धर्म मज़हब भाषा विचार... Read more
बेटियां
कहाँ नहीं है बेटियाँ कहाँ नहीं थी बेटियाँ कहाँ ना होंगी बेटियाँ हरकाल ,सदी, वर्ष,पल-पल में अपना परचम बेटियों ने लहराया है इसलिए ईश्वर ने... Read more