Skip to content

मैं रागिनी गर्ग न कोई कवि हूँ न कोई लेखिका एक हाउस वाइफ हूँ| लिखने में मेरी रुचि है| मेरी कोई रचना किसी भी साहित्य में प्रकाशित नहीं है| फेसबुक की पोस्ट पर कमेंट करती रहती थी| लोगों को पसंद आते थे| दोस्तों ने कहा तुम्हें लिखना चाहिए, कोशिश कर रही हूँ|

Share this:
All Postsकविता (20)गज़ल/गीतिका (1)मुक्तक (1)गीत (1)लेख (4)शेर (1)लघु कथा (1)कहानी (1)
काला साया
.................काला साया ............ बचपन से ही काले साये से डर लगता था ना माँ मुझको ..कभी कभी अपनी परछाईं से भी डर जाता था ..माँ... Read more
भक्ति गीत
भक्ति गीत दिल मेरा तूने चुरा लिया . मोहन मुरली वाले दिल मेरा तूने चुरा लिया मोहन मुरली वाले बड़े नैन मद भरे कटीले .... Read more
मुक्तक
.............शब्द चूड़ियाँ............ पैरों में पायल ,हाथों में चूडियाँ... युवतियों को लगने लगीं अब बेड़ियाँ... खो जायेगी यह खनखनाहट इनकी .. संस्कृति को गर न समझेंगी... Read more
मोदी जी ने किया वार भ्रष्टाचार हो गया लाचार।
ज्योंही तुमने जन्म लिया, मैं आया साथ तेरे, तुमने ही मुझको जन्म दिया, मानव तुम हो नाथ मेरे। मैं फैल रहा हूँ भारत में, महामारी,... Read more
आखिर कब तक
सैनिक होते रहें शहीद ये नेताओं की नीति है सियासत की कुर्सी से इनकी सच्ची प्रीती है मासूमों का खून देखकर भी यह नहीं जग... Read more