Skip to content

एक हिन्दी कवि एवं लेखक जो कविता, गीत, गजल, मुक्तक, दोहा, छंद रचनाकार श्रंगार रस एवं युगधर्म प्रधान कवि | हिन्दी साहित्य विद्यार्थी|

Share this:
All Postsगज़ल/गीतिका (1)मुक्तक (2)गीत (1)शेर (2)दोहे (3)
शायरी -
ये मेरी बेबसी है या मेरी गुरूरदारी है ; चंद लम्हों की जिन्दगी में ख्वावजारी है | ख्वाहिशों के दिये जो भी जले बुझते ही... Read more
तीन शेर***
ठुकरा दिये उसके दिये सारे तख्तो ताज हमने ; मुझको मालूम था तब फकीरी में जीने का मजा | मेरी हस्ती की फिकर करने वाले... Read more