Skip to content
विजय दशमी पर्व
विजय दशमी पर्व ज्योति पुंज का भव्य पर्व ये , सर्वत्र ज्योतिर्मय होय । अहंकार का मर्दन करने , सौम्य रूप जब होय । जले... Read more
मैं और तुम
मै और तुम तुम करुणा की मूर्तिमयी दिल , मै पत्थर दिल तन्हा हूँ । मै राह देखता लंबे पल तक तुम सुंदर पथ की... Read more
सबसे बड़ा रुपैया
सबसे प्यारा रूपैया बाप भइया न मइया, सबसे प्यारा रूपैया रूपैया चुनाव की जान हैं, रूपैया अर्थ की तान हैं। रूपये के लिये संघर्ष हैं,... Read more
डिफ़ाल्टर
डिफाल्टर प्रवीण कुमार हमारे गाॅव में एक परमानन्द जी का परिवार रहता था। षाम को जब मेहनतकष मजदूर,बटोही घर पहॅुच कर विश्राम की मुद्रा में... Read more
संवैधानिक समस्या एवं सामाजिक विषमता का आग्रह
संवैधानिक दायित्व एवम सामाजिक विषमता का आग्रह अबोध बचपन मासूम होता है । माता –पिता की ममता भरी छाँव मे ये नन्हा बचपन अहंकार रहित... Read more
रोज कुआं खोदते रोज पानी पीते  दिहाड़ी मजदूर --व्यंगात्मक कथा
रोज कुआं खोदते रोज पानी पीते दिहाड़ी मजदूर । प्रात : काल जब ग्राम वासी जाग कर अपनी दिनचर्या पूरी करते हैं , तब उनमें... Read more
एक व्यंग्यात्मक लेख ---जीवन एक रंगमंच
-------------जीवन एक रंगमंच -------- जीवन एक रंगमंच है । और इसमें अभिनय करने वाले पात्र कठपुतलियाँ हैं । इन सजीव पात्रों का सूत्रधार कोई अदृश्य... Read more
उदार हृदया अंकिता जी एवं आलोक का प्रायश्चित
उदार हदया अंकिता एवं आलोक का प्रायश्चित जीवन के 35 बंसत देख चुके आलोक बाबू अपने जीवन से संतुष्ट न थे। उन्हे हमेषा षिकायत थी... Read more
मोनू की कहानी
मोनू की कहानी समय अबाध गति से चल रहा था । कालचक्र अपने मे जीवन की विभिन्न घटनाए समेटे गति पकड़ रहा था । रात्रिकालीन... Read more
मँझली बेटी
मँझली बेटी बंजारों की दुनिया अद्भुत होती है । न भविष्य की चिंता न अतीत का दुख होता है , उन्हें । बस वर्तमान मे... Read more
दुखी मन मेरे
दुखी मन मेरे यह कहानी उन मानसिक रोगियों को सर्मपित है। जिन्होने अपनी जिन्दगी में खुषी का कोई क्षण अनुभव नही किया है। यह अजीब... Read more
अनहोनी
अनहोनी अचानक सड़क पर एक चीख सुनाई पड़ती है । छ्ज्जे परखड़े दो छात्रआपस मे गुफ्तगू कर रहे थे । धुंधलका गहराने लगा था ।... Read more
प्रायश्चित
प्रायश्चित शीतकाल प्रारम्भ है, रात्रीकी चादर सुबह का सूरज धीरेधीरे समेट रही है। उसकाप्रकाश दरवाजे की झिर्रीयों से छन-छन कर अंदर प्रवेश का अहसास करा... Read more