Skip to content

नाम : डॉ०प्रदीप कुमार "दीप"
जन्म तिथि : 02/08/1980
जन्म स्थान : ढ़ोसी ,खेतड़ी, झुन्झुनू, राजस्थान (भारत)
शिक्षा : स्नात्तकोतर ,नेट ,सेट ,जे०आर०एफ०,पीएच०डी० (भूगोल )
सम्प्रति : ब्लॉक सहकारिता निरीक्षक ,सहकारिता विभाग ,राजस्थान सरकार |
सम्प्राप्ति : शतक वीर सम्मान (2016-17) मंजिल ग्रुप साहित्यिक मंच ,नई दिल्ली (भारत)
सम्पर्क सूत्र : 09461535077
E.mail : drojaswadeep@gmail.com

Share this:
All Postsकविता (68)लेख (17)शेर (1)लघु कथा (3)कहानी (2)
पुस्तक समीक्षा : रामायण प्रसंग (लेखक- श्री मनोज अरोड़ा)
राजस्थान के लब्धप्रतिष्ठित लेखक , समीक्षक , और सामाजिक कार्यकर्ता श्री मनोज अरोड़ा की पुस्तक " रामायण प्रसंग " स्वामी विवेकानन्द द्वारा 31 जनवरी ,1900... Read more
पुस्तक समीक्षा : बाल सुमन (सुश्री अनुभूति गुप्ता)
पुस्तक समीक्षा ------------------------- पुस्तक : बाल सुमन लेखिका : सुश्री अनुभूति गुप्ता संस्करण : प्रथम संस्करण(2016) पृष्ठसंख्या : 46 मूल्य : ₹ 45 सुप्रसिद्ध कवयित्री,... Read more
पुस्तक भूमिका : नया शहर हो गया(नरेश कुमार चौहान)
भूमिका ---------------- अपने जनक एवं जननी को श्रद्धापूर्वक समर्पित श्री नरेश कुमार चौहान का समकालीन हिन्दी कविताओं का काव्य-संग्रह "नया शहर हो गया" एक श्रेष्ठ... Read more
पुस्तक भूमिका : महाभारत प्रसंग
भूमिका ---------------- भारतीय पुरातन सभ्यता , संस्कृति, संस्कार और सद्गुणों के आलोक में महान् विभूतियों के कर्म और मर्म को जानकर उन्हें पुन: प्रतिष्ठित करते... Read more
पुस्तक समीक्षा : कतरा भर धूप(सुश्री अनुभूति गुप्ता)
पुस्तक समीक्षा ------------------------ पुस्तक : कतरा भर धूप लेखिका : सुश्री अनुभूति गुप्ता संस्करण : प्रथम संस्करण(2017) पृष्ठसंख्या : 96 मूल्य : ₹ 75/- अभिरूचि... Read more
साहित्य समाज का दर्पण है
" साहित्य समाज का दर्पण है " ------------------- लेखन ऐसा चाहिए,जिसमें हो ईमान | सद्कर्म और मर्म ही,हो जिसमें भगवान || --------------------------- जिस प्रकार आत्मा... Read more
धार्मिक सहिष्णुता बनाम राष्ट्रीय एकता
" धार्मिक सहिष्णुता बनाम राष्ट्रीय एकता " ============================ धार्मिक सहिष्णुता को समझने के लिए "धर्म " और "सहिष्णुता' के वास्तविक मर्म को समझना जरूरी है... Read more
स्वाभिमान बनाम अभिमान
" स्वाभिमान बनाम अभिमान " --------------------------------------- सांख्य दर्शन की 'प्रकृति' की तरह ही मानवीय रचना भी त्रिगुणमयी है ,जिसमें सत्व ,रज और तम गुणों की... Read more
भारत में लोकतंत्र : उद्देश्य एवं उपलब्धियाँ
"भारत में लोकतंत्र : उद्देश्य एवं उपलब्धियाँ " ============================ जन का जनता के लिए ,जन का ऐसा कार | अपनी मर्जी से चुनें , सुयोग्यतम... Read more
साहित्यकार और पत्रकार का समाज के प्रति दायित्व
साहित्यकार और पत्रकार का समाज के प्रति दायित्व ----------------------------------------------------- लेखन ऐसा चाहिए , जिसमें हो ईमान | सद्कर्म और मर्म ही, हो जिसमें भगवान ||... Read more
राष्ट्र  निर्माण और विकास में महिलाओं की भूमिका
" राष्ट्र निर्माण और विकास में महिलाओं की भूमिका " ============================ "नारी" विधाता की सर्वोत्तम और नायाब सृष्टि है | नारी की सूरत और सीरत... Read more
भारतीय संस्कृति की विशेषता तथा बचाने के उपाय
" भारतीय संस्कृति की विशेषता तथा बचाने के उपाय " ----------------------------------------------------- " संस्कृति " एक ऐसी ऐतिहासिक सांस्कृतिक , भौगोलिक , दार्शनिक और नीतिगत मानवीय... Read more
लौटना होगा प्रकृति की ओर
"लौटना होगा प्रकृति की ओर" -------------------- "होली" शब्द की उत्पत्ति संस्कृत के 'होलक्का' शब्द से हुई है | वैदिक युगीन 'होलक्का' शब्द एक विशेष अन्न... Read more