Skip to content

नाम : डॉ०प्रदीप कुमार "दीप"
जन्म तिथि : 02/08/1980
जन्म स्थान : ढ़ोसी ,खेतड़ी, झुन्झुनू, राजस्थान (भारत)
शिक्षा : स्नात्तकोतर ,नेट ,सेट ,जे०आर०एफ०,पीएच०डी० (भूगोल )
सम्प्रति : ब्लॉक सहकारिता निरीक्षक ,सहकारिता विभाग ,राजस्थान सरकार |
सम्प्राप्ति : शतक वीर सम्मान (2016-17) मंजिल ग्रुप साहित्यिक मंच ,नई दिल्ली (भारत)
सम्पर्क सूत्र : 09461535077
E.mail : drojaswadeep@gmail.com

All Postsकविता (63)अन्य (2)लेख (12)शेर (1)लघु कथा (3)कहानी (2)
साहित्य समाज का दर्पण है
" साहित्य समाज का दर्पण है " ------------------- लेखन ऐसा चाहिए,जिसमें हो ईमान | सद्कर्म और मर्म ही,हो जिसमें भगवान || --------------------------- जिस प्रकार आत्मा... Read more
धार्मिक सहिष्णुता बनाम राष्ट्रीय एकता
" धार्मिक सहिष्णुता बनाम राष्ट्रीय एकता " ============================ धार्मिक सहिष्णुता को समझने के लिए "धर्म " और "सहिष्णुता' के वास्तविक मर्म को समझना जरूरी है... Read more
स्वाभिमान बनाम अभिमान
" स्वाभिमान बनाम अभिमान " --------------------------------------- सांख्य दर्शन की 'प्रकृति' की तरह ही मानवीय रचना भी त्रिगुणमयी है ,जिसमें सत्व ,रज और तम गुणों की... Read more
भारत में लोकतंत्र : उद्देश्य एवं उपलब्धियाँ
"भारत में लोकतंत्र : उद्देश्य एवं उपलब्धियाँ " ============================ जन का जनता के लिए ,जन का ऐसा कार | अपनी मर्जी से चुनें , सुयोग्यतम... Read more
साहित्यकार और पत्रकार का समाज के प्रति दायित्व
साहित्यकार और पत्रकार का समाज के प्रति दायित्व ----------------------------------------------------- लेखन ऐसा चाहिए , जिसमें हो ईमान | सद्कर्म और मर्म ही, हो जिसमें भगवान ||... Read more
राष्ट्र  निर्माण और विकास में महिलाओं की भूमिका
" राष्ट्र निर्माण और विकास में महिलाओं की भूमिका " ============================ "नारी" विधाता की सर्वोत्तम और नायाब सृष्टि है | नारी की सूरत और सीरत... Read more