Skip to content

साधारण सी ग्रहणी हूं ..इलाहाबाद युनिवर्सिटी से अंग्रेजी मे स्नातक हूं
.बस भावनाओ मे भीगे लभ्जो को अल्फाज देने की कोशिश करती हूं ...साहित्यिक परिचय बस इतना की हिन्दी पसंद है..हिन्दी कविता एवं लेख लिखने का प्रयास करती हूं..

All Postsकविता (53)लेख (2)शेर (5)दोहे (1)लघु कथा (1)कहानी (1)
यादों की गठरी
NIRA Rani कविता Sep 12, 2017
सपनो के ताने बाने है कुछ अरमान पुराने है इक यादों की गठरी है जिसमे जज्बात पुराने है कुछ वादो की टूटन है कुछ ख्वाबों... Read more
मै क्या लिखूं
कुछ हास लिखूं परिहास लिखू या मन के कुछ जज्बात लिखूं अम्बर का विस्तार लिखूं या सूरज की चमकार लिखू रात्री का अंधकार लिखूं या... Read more
तूफॉ मे कश्ती
न मॉझी न हमसफर न हक मे हवॉए तूफॉ मे कश्ती बर्फीले सदाए चाहतो के झोंके क्यू मुझको डराए गजब है ये मंजर ..न राहे... Read more
मॉ
NIRA Rani कविता May 14, 2017
मॉ तुझे कुछ शब्दो मे व्यक्त कर दू ..... कभी हो नही सकता तेरी अनमोल ममता का हिसाब... कभी हो नही सकता बेचैन होती हूं... Read more
तुम्हे
NIRA Rani शेर Jan 25, 2017
एक लम्तुहात गुजरने से पहले इश्क के जज्बात मे पिघलने से पहले न जाने ये ख्याल आया है .... न तुम्हे पाया है न पाने... Read more
बेटियॉ
NIRA Rani कविता Jan 10, 2017
बेटियॉ .. वेदों की माने तो गाथा हैं वो किसना के साथ भोली राधा हैं वो घर पे है तो मर्यादा है वो युद्ध स्थल... Read more
नव वर्ष मुबारक
ऊषा की पहली किरण मुस्कराई आज फिर एक नया सबेरा लाई कुछ नई सौगाते और सपने साथ लाई कण कण मे उजाला भरती हुई आई... Read more
गरीबी
गरीबी गरीबी … गरीबी भी कितनी अजीब है शायद ये ही उनका नसीब है गरीबी भी दो किस्म की देखा किसी को मन का तो... Read more
दिया जलता रहा
NIRA Rani कविता Oct 27, 2016
दिया जलता रहा सचमुच दिया जलता रहा घनघोर स्याह रात थी हॉ अमावस की रात थी वो दिया जलता रहा शायद उम्मीदो का दिया था... Read more