Skip to content
बेटियां
बेटियाँ ~~~||||~~~ मापनी--212 212 212 212 समान्त--अती पदान्त--बेटियाँ ************************* वक्त से कीर्तियां खोजती बेटियाँ। फर्ज रिश्ते सभी सींचती बेटियाँ। भाल ऊँचा किया कर्म से है... Read more
गुरु महिमा
आधार छंद - दोहा मात्रा भार - (13, 11) मुखड़े के दोनों पद तुकान्त एवं युग्म का पूर्व पद अतुकांत एवं पूरक पद तुकान्त अनिवार्य... Read more
बेटियाँ
विधा----गीतिका आधार छंद - वाचिक स्रग्विणी (मापनीयुक्त) वाचिक मापनी - 212 212 212 212 समांत - अती, पदान्त - बेटियाँ। -------------------------------------------------------------------- बेटियाँ ~~~||||~~~ वक्त से... Read more
भ्रमर
हाय कैसे भ्रमर चूसता है। रस भला पुष्प भी देखता है। खोलकर सोचता दल सभी है। क्या मुझे कुछ मिलेगा कभी है। जागता है अरे... Read more
बचपन चाहिए
************************************* बचपन चाहिए ++++++++++ मुझे मेरा प्यारा बचपन चाहिए। वह बालहठ और स्वच्छ मन चाहिए। खेल मिट्टी से चिढाना' बुजुर्गों को, लड़ना मिलाना अपनापन चाहिए।... Read more
जिन्दगी
विधा - मनोरम छंद मापनी - 2122 2122 तुकान्त - (1) एली, अते (2) एरा, आगे (3) आना, अना (4) अला है, आकर । ---------------------++++------------------------------... Read more
वतन
छंद --विजात (भारत माता की जय पर) मापनी--1222 1222 ------------------------------------------------------------ नई आशा दिशा जागी, बुरी आदत सभी त्यागी। नया होगा चमन मेरा, सजेगा यह वतन... Read more
मेरा भारत
विधा---गीतिका आधार छंद ---- दिग्पाल मापनी----221 2122 221 2122 समान्त----आना, अपदान्त ***************************************** भारत विशाल को है गौरवमयी बनाना। राहें नही सरल पर सम्मान है दिलाना।... Read more
मन
सादर नमन आज के प्रयास से बने छंद। छन्द---- विमोहा (मपनीयुक्त वर्णिक) मापनी---212 212 ?????? मन *********** बावला हो गया। सोचता ही गया। चित्त मेरे... Read more
संस्कार
================================ गीतिका ~~~|||~~~ आधार छंद -----सुमेरु (मापनी युक्त) मापनी -----------1222 1222 122 तुकान्त-----आया ( समान्त--आया ,पदान्त--अपदान्त) ~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~ हमारे देश में सब कुछ ----समाया। यहाँ के... Read more
बेटी
****************************************** विधा-----गीतिका छंद------पदपादाकुलक छंद मात्रा भार---16 समान्त-----आना पदान्त------है ÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷ शीर्षक----बेटी ~~~~||||~~~~ बेटी का मान ------------बढ़ाना है। इनके अधिकार -------दिलाना है। उपहार खुदा------------का है बेटी, सब... Read more
वृक्ष
वृक्ष ||||||||||| पेड़ होते भूमि की नित--------शान हैं। सृष्टि का भूलोक पर-------वरदान हैं। सब निराले गुण समेटे हैं-------विटप, फल हवा औषध दिए कुल --दान हैं।... Read more