Skip to content

कॉर्पोरेट और हिंदी की जगज़ाहिर लड़ाई में एक छुपा हुआ लेखक हूँ। माँ हिंदी के प्रति मेरी गहरी निष्ठा हैं। जिसे आजीवन मैं निभाना चाहता हूँ।

Share this:
All Postsकविता (43)मुक्तक (11)गीत (1)लेख (4)लघु कथा (2)कहानी (1)
प्रेम की परिभाषा
प्रेम नहीं शादी का बंधन प्रेम नहीं रस्मों की अड़चन, प्रेम नहीं हैं स्वार्थ भाषा प्रेम नहीं जिस्मी अभिलाषा प्रेम अहम् का वरण नहीं हैं... Read more
माँ और बाप
आस्थाओं की आस्था प्रेम की पराकाष्ठा निज का दफ़न ताप, माँ और बाप .. आंसुओं के नद परवाह की हद अपनेपन की अमिट छाप माँ... Read more
आदमी की औक़ात
सिरे से खारिज़ कर बैठता हूँ, जब सुनता हूँ की चौरासी लाख योनियों में सर्वश्रेष्ठ हैं आदमी, सजीव हो उठती हैं, नहीं आखों से हटती... Read more
माँ तेरे एहसान  !
तेरा बचपन में मुझे पुचकारना मेरी गलतियों पर फटकारना, माथे पर काला टीका लगाना; थपकियाँ देकर सुलाना नहीं भूल पाउंगा कभी मरने के बाद भी..मरने... Read more
मैं बस एकबार..
मैं बस एकबार मिलना चाहता हूँ तुमसे , ओ मेरे दिलदार.. भुलाकर शिकवे सारे, भुलाकर दुनिया का दाह लिपटकर गले से तुम्हारे रोना चाहता हूँ... Read more
वक़्त की ताकत !
वक़्त ही सबको हँसाता, वक़्त ही सबको रुलाता वक़्त ही कुछ घाव देकर, वक़्त ही मरहम लगाता, वक़्त ने छीन ली है, खुद्दारों से उनकी... Read more
किसान का दर्द
बदल गया है फ़ैशन सारा; बदल गया दुनिया का हाल, बदला नहीं किसान देश का; अब भी "बेचारा बदहाल" ... व्यवस्था का जुल्मों-सितम; क़ुदरत का... Read more