Skip to content
Published Books

एक दर्जन के करीब

Awards & Recognition

कई संस्थाओ से

All Postsकविता (37)लघु कथा (1)कहानी (15)
पंख लग जाते
पंख लग जाते फूलों ने रंग धार लिया मन में उमंग है मेरे, पास मैं तेरे आ जाती पंख लग जाते जो मुझे। पवन सर-सर-सर... Read more
ऐसा जीवन
ऐसा जीवन फूलों की भांति खिलता हुआ समीर की भांति बहता हुआ। पानी की भांति प्रवाहपूर्ण प्रभू ऐसा जीवन हो मेरा । चट्टान की भांति... Read more
तेरी आंखे
तेरी आंखें तेरी आंखों की क्या तारीफ करूं । ये हैं गहरी झील सनम सोचता हूं इनमें डूब मरूं तेरी आंखों की गहराई का शायद... Read more
पंख लग जाते
पंख लग जाते फूलों ने रंग धार लिया मन में उमंग है मेरे पास मैं तेरे आ जाती पंख लग जाते जो मुझे। पवन सर-सर-सर... Read more
जुगनूओं की रजाई
जुगनूओं की रजाई घर खुली जगह छत, पूरा आसमान सोने को हरी-भरी दूब ओढने को रजाई चमकते जुगनूओं की। फटी रजाई में कहीं-कहीं झांकते स्वच्छ... Read more
काले  बादल
काले बादल आज फिर से मेघ काले नाग से घिर-घिर हैं आने लगे। कभी मुग्ध, कभी दग्ध कभी भयावह, तो कभी नम्र कभी देते आँखों... Read more
गर्मी
गर्मी तन ये सारा फूंक दिया मन मेरा झकझोर दिया गिराकर ऐसे सीधी गर्मी सबकुछ तुने झुलसा दिया । खिलने वाला प्रसून बाग में अधखिला... Read more
बकवास कल्पना
बकवास कल्पना दूर कहीं दूर गर्मी की दोपहर में किसी निर्जन जंगल में सन्नाटे की गोद में बैठा हुआ मेरा मन कोरी कल्पना में डूबा।... Read more
एक बस तुम ही
एक बस तुम ही मेरी बैषाखियां बन कर मुझे सहारा देने वाली मेरे पथ के कांटो को पलकों से चुनने वाली एक बस तुम ही... Read more
पानी
पानी हाँ मैं मानता हूँ देखने में मेरी हस्ती क्या है कुछ भी नही आग पर गिरूं जलकर भाप बन उडूं धरा पर गिरूं हर... Read more
राधा झूले
राधा झूले अहो ग्वाल भईया कहियो बरसाणा बाबुल से जाय। भेजो दाऊ भईया लेने मुझको आय। सावण रूत , झर लाग्यो झर-झर बूंदिया गिरत बगिया... Read more
मेरा जीवन
मेरा जीवन खेत की पगडंडियों पर उगी हुई हरी घास पर पड़ी हुई ओंस की बूंदे ज्यों------- ? बनती और सिमट जाती है हे प्रभू... Read more
गरीब की आंखें
गरीब की आँखें मलिन सा चेहरा गिरती उठती हौले-हौले तन पर फटे हुए कपड़े जरूर ये आँखें किसी गरीब की हैं । गरीबी की अकड़... Read more
बारिश
बारिश उदक फुदक-फुदक कर , छन-छन-छनकता हुआ, मेघों के पारभाषी आंचल से टपक-टपक-टपक रहा । तरूवर चुप खड़े निढाल से फुनगियों को अंदर मुंदे हुए... Read more
बीती बातें
बीती बातें आज जब मैं अपने पुराने दिनों की यादें ताजा करने को स्कूल की चाहरदीवारी के अन्दर जब दाखिल हुआ तो दंग मैं रह... Read more
नौ कन्या
नौ कन्या आज सुबह ही बीवी ने मेरी मुझे धंधेड़ा और उठाया । आंखें मलते मैं उठ बैठा क्या है भाग्यवान , क्यों शोर मचाया... Read more
हवा की आवाज
*हवा की आवाज* पंखे की तेज हवा से सुबह के सुनसान मंजर में खुली पुस्तक का कोई पृष्ठ कभी-कभार चुप्पी को तोड़ता हुआ बेतहासा जोर... Read more
बीती बातें
बीती बातें बहुत दिनों के बाद आज गांव की याद आने लगी हैं। काम की व्यस्तता के कारण मैंने पन्द्रह साल शहर में गुजार दिए।... Read more
रास्ते का पेड़
रास्ते का पेड़ अनगिनत मुसाफिर आए इस रास्ते से मैं उन्हें निहारता रहता दूर से उनके पैरों की धूल आसमां को छूती हुई-सी प्रतीत होती... Read more
सजी धरा
सजी धरा आज धरा सजी संवरी सी मिलने चली प्रियतम से छिडक़ तन पे सुगन्धित इत्र आँखों में सलोने ले सपने । पोत सफेद मिट्टी... Read more
बीती बातें
बीती बातें बहुत दिनों के बाद आज गांव की याद आने लगी हैं। काम की व्यस्तता के कारण मैंने पन्द्रह साल शहर में गुजार दिए।... Read more
शादी
शादी आजकल शिक्षा इतनी महत्वपूर्ण हो गई है कि उसके बिना तो लड़की वाला यह कहकर टाल देता है कि हां भाई देखेंगे घर पर... Read more
धूप
धूप बहुत दिनों के बाद आज फिर सजधज कर सुन्दर बाला, बैठ गई है हरी दूब पर खिला-खिला-सा रूप निराला। इसके यौवन की सुरभि फैली... Read more
स्त्री
स्त्री महिला सशक्तिकरण, अबला नारी, नारी शक्ति पहचानो । कुछ अजीब सा लगता है मुझे ये सब । आज की नारी और पहले की नारी,... Read more
प्रकृति
प्रकृति प्रकृति ने देखो हमें दिया है अनोखा उपहार, हर जगह हरियाली है प्रकृति से मुझे है प्यार । कितने अमूल्य रत्न समेटे है अपने... Read more
दूसरा जन्म
अधेड़ उम्र की औरत गांव से बाहर काफी दूर एक बड़े से बरगद के पेड़ के नीचे बैठकर चिल्ला-चिल्ला कर अपने आपको कोसती हुई रो... Read more