Skip to content
आंखें
आंखें ------/- कितने सैलाब समेटे तकती रहीं आंखें तुम्हारा रास्ता बुहारती रहीं आंखें । देर से आने की खबर बरस गयी , सावन में भी... Read more
हाइकु
जीवन ***** ………….. मन में क्षोभ वेदना घनघोर मृत्यु का ग्रास ................... आशा खंडित गहन अवसाद शव दर्शन ............ आत्मा अमर पुनः से आगमन नव... Read more