Skip to content

मै अमित मौर्य,
निवास लखनऊ
निवासी-लखीमपुर जिला
शौक- मीचिस की तीलियों से घर व कलाकृतियां बनाना,
कविता, गजल, दोहे, व अन्य विधाओं में लिखना,
पढना, व खाना बनाना |

उम्र- 29 वर्ष

All Postsकविता (4)मुक्तक (1)गीत (1)दोहे (1)हाइकु (1)
काव्य
एक रचना बच्चे के लिए जिसकी माँ देहव्यापार के दलदल में फँसी है वह जब देखता है कि हर रोज नया आदमी आता है उसकी... Read more
मैं और तुम
चलो तुम गीत गाओ, मै साज बन जाऊं, चलो तुम शब्द बनों मैं आवाज बन जाऊं | थे किये वादे हमने वो मिलकर हम निभाएंगे,... Read more
निवेदन
जरा ठहरो आहिस्ता चलो, पायल न बजाओ, कोई सुन लेगा, तुम्हरी महकी हुई सांसो से कोई खुशबू चुन लेगा, अरे हर किसी के सामने बेपर्दा... Read more