Skip to content

मीनू यादव
स्नातकोत्तर (हिंदी )
टी.जी. टी .(अध्यापिका )
मेरे लेख और कविताएँ कई अखबार , पत्रिका में प्रकाशित हुए हैं l

Share this:
All Postsकविता (22)मुक्तक (7)गीत (1)शेर (1)
मेरा सपना
एक दिन मैंने सपना देखा , उसमे मैंने खुद को देखा .. मैं भारत की वीर सिपाही , पहनी थी मैंने खाकी भाई ! एक... Read more
विश्वास
विश्वास आँखों से छलकता है , दिल में धड़कता है , रिश्तों में जकड़ता है , अपनों को पकड़ता है , विश्वास ! विश्वास !...... Read more
नन्हा मेहमान
meenu yadav गीत Dec 6, 2017
बड़ी मुद्द्तों के बाद .. हैं दिन यह आया ... कोई नन्हा मेहमान है घर मेरे आया ... किलकारी से उसकी , भर उठा मेरा... Read more
ये बच्चे!!
ये बच्चे नादान.... गुरु की महिमा ये न जाने , अपने को भी न पहचाने बिन बात मुस्काते हैं .. आकर्षण से भर जाते हैं... Read more
ये कलम !
ये कलम ! हरदम कुछ कहती हैं .. हाथ में आने पर लिखने को मचलती है l भावों के मनको को कागज़ पर उकेरती है... Read more
बुलंद हौसला
दौड़े तो हम भी इस कदर , पैरों में छाले पड़ गए छलाँगे लगाई चट्टानों से , घुटने छिल गए आकाश की तो छोड़ो दोस्तों... Read more
मेरा मन
मेरा मन कविता करने को मचलता है , क्या लिखूँ ! यही सोच घबराता है सोचा मुख्य अध्यापिका पर लिखूँ , उनके चलने के ढंग... Read more
दादा जी
दादा जी किताब मँगा दो , मैं भी पढ़ने जाऊँगी l सेक्टर पाँच में स्कूल खुल गया , अपना नाम लिखाऊँगी l पढ़ -लिखकर में... Read more
माँ
माँ माँ में गर्भ से निकलकर देखूँगी संसार न लो जीवन मेरा तुम .. होगा बड़ा उपकार ! उठो ,लड़ो इस दुष्ट समाज से करो... Read more
सपनों की उड़ान
सपनों की उड़ान मुट्ठी बंद कर ली कल्पना की उड़ान की पहली मुट्ठी खोल ली स्कूल के नाम की खान पढ़ूँगी? गाँव या शहर !... Read more
एक गुल
. एक गुल बगीचे में गुलज़ार हुआ गुल .. ज़्यादा ही खिला ,मुस्कुराया .. पूछते सखा उसके - क्यों खिले हो इस कदर ????? जीवन... Read more
भगवान बचाओं
भगवान बचाओं .... देखो कलयुग ऐसा आया , भगवानों का भी घर है बनाया , इससे काम नहीं चला तो उसमे ताला भी लगवाया ....... Read more
फलशफा -ए-इश्क
meenu yadav शेर Jan 25, 2017
1 हमने ज़िन्दगी से वफ़ा की , कबख़्त ज़िन्दगी बेवफा निकली l हमे बीच मजधार छोड़ , वो किसी और की हो चली l l... Read more
बदलती सोच
बदल रही है सोच हमारी नया नज़रिया आया है … बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ नारा सबने मिलकर लगाया है रीति -रिवाज की बंदिश तोड़ उसे... Read more
हमारी  बिटियाँ
हमारी बिटियाँ कल तक मेरी गोद में खेली , आँचल संग कर ठिठोली l कभी हटाएँ , फिर छिप जाये , करें आँख मिचौली! मेरी... Read more
भँवर
भँवर लगता है किसी भँवर में हूँ अनचाहे शहर में हूँ अनजाने लोगों की नज़र में हूँ डर लग रहा है कहा जाऊँ ! न... Read more