Skip to content

मेरा नाम मीनाक्षी भसीन है और मैं पेशे से एक अनुवादक हूं। दिल्ली के एक सरकारी कार्यालय में काम करते हुए मुझे करीब सात वर्ष हो चुके हैं। मुझे लिखने का बहुत शौंक है और शायद इसलिए मैं अपना काम बहुत आनंद से करती हूं। मुझे अपना कार्य कोई बोझ नहीं बल्कि अपनी दिनचर्या का एक अहम हिस्सा लगता है। मेरा मानना है कि लेखनी की ताकत बोलने से कहीं अधिक होती है।

Share this:
All Postsकविता (10)
उफ! यह प्रदूषण
गौर से देखिए बाहर घना काला बादल सा छाया चहुं ओर सांस लेने में हो गई दिक्क्त आंखों में जलन, सीने में जमघट पर इसको... Read more
सच है सुविधा का सुख से कोई संबंध नहीं, मन हो बैचेन तो, कंफर्ट में भी कोई दम नहीं
सच है सुविधा का सुख से कोई संबंध नहीं, मन हो बैचेन तो, कंफर्ट में भी कोई दम नहीं आलीशान सा दिख रहा था होटल... Read more
हमारी रुहें कुपोषण का शिकार क्यों हैं?
हमारी रुहें कुपोषण का शिकार क्यों हैं? सजी धजी रंग बिंरगी डिजाइनर दीवारों से घिरी हुई, बड़े-बड़े अदभुत से, शानो-शौकत का दम भरते हुए पर्दों... Read more