Skip to content

मिर्जापुर जिले के छोटे से कस्बे लहंगपुर में पले बढ़े मनोज तिवारी, हर एक चीज को बदलाव की ऩजर से देखते हैं. यही वजह है कि ये लगातार अपने बदलाव को प्रयोगिक धरातल पर उतार कर साहित्यिक रूप में जन मानस तक पहुँचानें में सफल रहें हैं. इनका कहना सिर्फ इतना है कि अच्छे काम करते जाओ, सीखते जाओ और कदम बढ़ाते जाओ.

Share this:
All Postsकविता (1)
यह भी सच है
यकीनन् गर हम अपनी वर्तमान परिस्थिति में जीना मतलब लुफ्त उठाना सीख लें तो बात ही क्या. खैर काफी लम्बे समय से एक अच्छा इन्सान... Read more