Skip to content

लेखनी के माध्यम से अपनी कल्पना और भावात्मक विचारों की अभिव्यक्ति मुझे काव्य लेखन की ओर ले आई है । अतः आनन्द का अनुभव हो रहा है और मन में लिखने की उमंग बनी रहती है।

All Postsकविता (6)
राह इन्तज़ार
दिन भर राह तुम्हारी निहारी थोड़ी थकी सी हूँ , अभी क्षितिज की लालिमा विश्वास का दीप , आँचल से ढके बैठी हूँ पास हो... Read more
इज़हारे बफा
इजहारे बफा करते है वो शौक़ से , क्या करे यह हमें गवारा नहीं । इश्क़ में डूबे इतना कि तुम्हारा साथ हो दर्दे इश्क़... Read more
यादें
सासें हैं क्या याद दिलाती रहती हैं कोई है कोई है याद आ रहा है। धूमिल नहीं पड़ती ये बेवफा नहीं, साथ देने मे उस्ताद... Read more
प्रेम उत्सव
नभ मंडल मे अप्सराएँ मचा रहीं है शोर , मही पर प्रेम उत्सव मना रहे है लोग । बन उपवन मे मदहोशी , मन वीणा... Read more
प्रतीक बेटियाँ
राष्ट्र की पूँजी हैं बेटियाँ राष्ट्र की प्रतीक ये बेटियाँ , अम्बर को बाँहों मे लेती ये बेटियाँ , एन सी सी मे परिशिक्षित ये... Read more
प्रतीक बेटियाँ
राष्ट्र की पूँजी हैं बेटियाँ राष्ट्र की प्रतीक ये बेटियाँ , अम्बर को बाँहों मे लेती ये बेटियाँ , एन सी सी मे परिशिक्षित ये... Read more