Skip to content
मुहब्बत?
मुहब्बत को तेरी छुपा के सारे जहान से ; हमने तेरी आहट सुनी है तितलियों के कान से !! @lakhnawiji (7071497236) www.facebook.com/lakhanwiji
माँ.......!!
तेरी आँखों में उठी हर मलालें देख लेता हूँ ; न बिखरा हो टूटकर शीशा पर दरारें देख लेता हूँ !! #माँ @लखनवी जी
बेटी
मेरी भी जमी है, है मेरा आसमां ; मुझे भी जीने का अधिकार चाहिए ; माँ-पापा आप दोनों का थोड़ा सा प्यार चाहिए ! न... Read more