Skip to content

पता-विराटनगर जयपुर(राजस्थान)
जीवन को मॉ शारदे की सेवा मे लगाने का सपना
Mo.no.-9782898531
Twitter-krish24496

All Postsकविता (4)गीत (5)
दीपावली
krishan saini गीत Oct 19, 2017
रावण मार के घर को आये,खुशी हुई बड़ी भारी.... दीप जलाके मने दीवाली,फैल रही उजियाली... मात कैकई वर मांगा था,राम जाये वन को... सुन माँ... Read more
विरह गीत
krishan saini गीत Feb 22, 2017
वो तेरी हर मुलाकाते अब मुझे रूलाती है वो तेरी हर बाते अब मुझे सताती है सोचता है दिल मेरा छोडु ये ज़िंदगी पर माँ-बाप... Read more
सबसे बडा भूत
जब मै छोटा बच्चा था दादी माँ ने सुनाया जो मुझे वो भूतो का किस्सा था मै दिल का कच्चा था भूतो से डरना तब... Read more