Skip to content

कविता(पद्मज फेसबुक पर) ,पटना, सम्प्रति - लेखा पदाधिकारी, समाज कल्याण, बिहार सरकार, पटना

Share this:
All Postsकविता (1)
मॉ क्यों?
मॉ क्यों लगती है मेरी किलकारी तुझको अपनी लाचारी मॉ क्यों करती हो तुम अपनी बिटिया से ही गद्दारी मॉ आ जाने दो ना मुझको... Read more