Skip to content
तुम्हारी बिटिया
नहीं थी सुफल , पूर्व जन्मों की, मंतव्य किसी यज्ञ की. मुझे कभी माँगा नहीं गया, अनगिनत देवताओं से, हाथ उठा कर,सर नवा कर. मगर... Read more
तुम्हारी बिटिया
नहीं थी सुफल , पूर्व जन्मों की, मंतव्य किसी यज्ञ की. मुझे कभी माँगा नहीं गया, अनगिनत देवताओं से, हाथ उठा कर,सर नवा कर. मगर... Read more