Skip to content

अनिल कुमार मिश्र
विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं में रचनाएँ प्रकाशित
काव्य संकलन'अब दिल्ली में डर लगता है'(अमेज़न,फ्लिपकार्ट पर उपलब्ध)
अशोक अंचल स्मृति सम्मान 2010
लगभग 20 वर्षों से शिक्षण एवं प्रशासनिक दायित्वों का निर्वहन
सम्प्रति प्राचार्य,सी बी एस ई स्कूल
निरंतर मुक्त लेखन
आपके स्नेह का पात्र
संपर्क-9576729809
itsanil76@gmail.com

Share this:
All Postsकविता (19)मुक्तक (1)
आशा
आशाओं की डोर हो गयी काफी पतली बस टूटन की प्यास बसी है,अँखियन में। तिलकुट मधुर हो और कंकड़ भी मिले ना उसमें दही शुद्ध... Read more
माँ
"मदर्स डे"-सुनने में अच्छा लगता है,आधुनिकता प्रमाणित होती है इससे,हाँ हम सब अंधे दौड़ में हैं,मदर्स डे मनाकर माँ को सम्मान देना चाहते हैं। हमारे... Read more
आवाज़
इन साँसों की छटपट बेचैनी को जगत् में कौन समझा है,बताओ ह्रदय की आवाज़ सुनने पास आओ। राह दिल की सत्य से होकर गुज़रती है... Read more
बाजार
महानगर के व्यस्त,बेचैन,छटपटाते बाजार में ज़िंदगी अपनापन ढूँढ़ते-ढूँढ़ते प्रतिपल बिकती रहती है कृत्रिमता की गहरी खाई हमें निगलती जाती है। प्रतिक्षण रंग-बिरंगे अंतहीन आकर्षण आतंरिक... Read more
प्रेम
रेत सी बंज़र ज़मीं पर,प्रेम का पौधा कहो कैसे लगाऊँ ढूँढूँ कहाँ मैं उर्वरा,जो नेह को भाये सदा। संबंध के झन-झन झिंगोले ने मस्तिष्क में... Read more
माँ
माँ!तेरा स्नेह मिले प्रतिपल जीवन को आलोकित कर दो मानव सच्चा बन पाऊँ मैं नीड़-नेह में रस भर दो। कृत्रिमता की होड़ लगी है मैं... Read more
बेटी
बेटी है आधार जगत का बेटी से है सार जगत का बेटी देवी,बेटी सीता बेटी बाइबल,कुरान और गीता। बेटी में संसार छिपा है जग का... Read more