Skip to content

💞 है यही मेरा अस्तित्व, और यही मेरा वजूद...
विधाता का दिया ये जीवन मेरा, है अमृत की बूंद...।।💞
मैं मूलतः अम्बेडकर नगर (उत्तर प्रदेश) की रहने वाली हूँ । मैंने परास्नातक द्वय (हिन्दी साहित्य और समाजशास्त्र से) किया है । लेखन में रुचि बचपन से ही रही है । बचपन में भी मैंने कुछ बाल पत्रिकाओं में कहानी लेखन किया है । माँ सरस्वती की कृपादृष्टि से मेरी लेखनी को आप सब पाठकों का मूल्यवान समय और प्यार मिला ...आभारी हूँ...सादर 🙏

Hometown: अम्बेडकर नगर (उत्तर प्रदेश)
Share this:
All Postsकविता (19)गीत (1)
ओ रे मौन..!!
ओ रे मौन...!! तू क्यों नहीं बोलता...?? क्या है राज़...?? जो तू नहीं खोलता...., बता दे..! आज मुझको, यकीन दिलाता हूँ,, नहीं निराश करूँगा तुझको,,,... Read more
पर्दाप्रथा
नारी पर हो रहे अत्याचारों में मुख्यतः एक परदा प्रथा भी है जिसे झेलने को वो विवश है.....आज इसी विषय पर कुछ पंक्तियां प्रस्तुत कर... Read more
फ़रेब
"फ़रेब" ***@@**** लफ़्ज़ कितने जाया हुए मेरे एक भी न छू सके दिल को तेरे, शायद पत्थर था कोई सीने में तेरे... टकराकर चूर हुए... Read more
गरीबी
गरीबी... ये कैसी लाचारी..ये कैसी मजबूरी... यतीम, अनाथ देश का भविष्य अक़्सर दिखता दारुण ये दृश्य फ़टे-पुराने, छोटे-बड़े कैसे भी हों कपड़े बस किसी तरह... Read more
**************** आज हूँ मैं निःशब्द.... बोलेंगे आज सिर्फ़ मेरी डायरी के शब्द..., उड़ रहे रंगीन तितलियों की तरह आसमां को रंगने को अपनी सतरंगी पंखों... Read more
नववर्ष
🌻 "नववर्ष" 🌻 👑👑👑🎁👑👑👑 नववर्ष आगमन हर्ष व उत्साह का आचमन सुसज्जित दुनिया सारी नववर्ष के स्वागत की तैयारी, सजी हैं सड़कें, सजीं दूकानें चकाचौंध... Read more
* तारीख़ *
"तारीख" ********* "तारीख"...!! हाँ.! वही तारीख़...वही माह...! बस वर्ष बदल गया... तुम्हारी तरह ! तारीख़ रह गया...मेरी तरह ! नहीं बदल पाया वो... इस गतिमान... Read more
मेरी लेखनी
✒ मेरी लेखनी ✒ ♦♦♦♦♦♦♦ कुछ तो है.... जो मुझे खींचती है तुम्हारी ओर जैसे कोई तिलिस्मी डोर, वशीभूत होकर जैसे... बढ़ते हैं कदम, फिर... Read more
कहते हैं लोग इश्क़ की है जात क्या क्या है कोई इससे हसीं जज़्बात क्या न पाने की हो लालसा, न खोने का हो ग़म... Read more
🕰 "वक़्त" 🕰 🕰🕰🕰🕰🕰🕰🕰🕰 वक़्त ... एक अद्भुत शक्ति शून्य में विचरण करती एक मौन अभिव्यक्ति, वक़्त ... गतिमान अनवरत अस्तित्व शाश्वत, पूर्ण सत्य बहुमूल्य... Read more
🌼 * मौन *🌼 ****************** "मौन"!! हाँ...तुम्हारा मौन ही तो था जो विष बनके व्याप्त हो गया हमारे बीच, एक खाईं सा बना दिया था... Read more
**अजनबी साया ** -------------------------- आज फिर वो मेरे ख़्वाबों में आया होंठों पे मुस्कान मगर आँखों में नमी.... समझ न सकी मैं मुस्कान के साथ... Read more
" सूरज और गृहणी " ★★★★★★★★★ सिन्दूरी चूनर ओढ़ के निकले , सूरज की किरने दुल्हन बनके , जग में वो नयी रौनक सी भरे... Read more
🌷डोली🌷 ********************* छूटा पीहर..दूर हुआ नैहर.... डोली ने प्यार से थामकर नवजीवन का परिचय कराया सतरंगी सपनों को बुनकर मेरे संग मेरी आँखों मे सजाया,... Read more
💖💞 एक घूँट - ज़िन्दगी की 💞💖 💚💚💚💚💚💚💚💚💚💚💚 चाय की चुस्कियाँ...और साथ में तुम, मैं तुममें...और तुम.........?? तुम अख़बार में गुम.... उफ्फ़....अचानक अदरक की कड़वाहट... Read more
🌻 अतीत 🌻 ***************** आज फिर अतीत ने मेरा दरवाजा खटखटाया... किवाड़ खोला तो मैंने अतीत को खड़ा पाया... पूछा मैंने..... अरे अतीत ...! तू... Read more
🌻सुप्रभातम🌻
सोने के रथ पर हो सवार, निकला है जैसे सूर्य कुमार, चेहरे की स्वर्णिम दिव्य आभा, दे भूमण्डल को सिंदूरी शोभा । जैसे राजा का... Read more
मेरा अस्तित्व
सच कहूँ तो इस कविता के माध्यम से मैंने अपने मन की अभिव्यक्तियों को व्यक्त करने का प्रयास किया है..सम्भवतः यही हर नारी के सन्दर्भ... Read more
🙏श्री कृष्ण लीला🙏
Priyanka Soni गीत Dec 22, 2017
♥️ "हठीला श्याम आवत नाहीं" ♥️ 🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁 हठीला श्याम आवत नाहीं देख हमें मुस्कावत नाहीं........🌷 उस बिन अब तो राहत नाहीं और कछू की चाहत... Read more