Skip to content
यादें
घाटियों पर, घिर रहा- गहरा अंधेरा। मन मे उभरता, आ रहा है- नक्श तेरा। जैसे आनसों के, नन्हे नन्हे हंस- तैरते से आ रहे हैं,... Read more
मुक्तक
पतझड़ लाया उदासी फागुन बसंत बाहर नई कोपलें। मुस्काई प्रकृति का हुआ सृगार। जीवन मे बसाया भरष्टाचार भगवान से करवाया व्यापार फ़ोटो धूप धर थाली... Read more
विनती
शिखरिणी चंद है दीना नाथ अर्ज सुनो मेरी चेरी हूँ तेरी। कष्टों की वर्षा ये मन घबराए परीक्षा मेरी। थकी है सांसे थका है तन... Read more
चलो
आवो हम सब मिल चलें जमुना जी के टिड उत श्याम बंसी बजे राधा भर लावे नीर। राधा भर ल्यावे नीर कदम्ब की छांव है... Read more
दिल
दिल मे है आंधी कोई अंदर दबी हुई वरना यह इतना परेशान सा क्यों है। अब तो चाहतों का भी कुछ शोर नहीं है कुछ... Read more
तीन शेर
मुझे देखो मैं बूत हूँ मन्दिर में आस्था का बतौर रस्म आवोगे तो खाली ही हाथ जावोगे। दूरी भी नहीं कोई और पासभी नहीं हैं... Read more
शेर
मौत जो मांगी तो न आई तमाम उम्र अब जीने की तमन्ना है तो आई गले लगने। देने को यह जिंदगी बची। है मेरे पास... Read more
सम्बन्ध
ज्यों मकड़ी जाल बुने हम बुनते सम्बन्ध उलझ पुलझ उनमे फंसे स्वीकारे प्रतिबन्ध। आशा सुख की संसार मे मात्र निराशा है भौतिकता में आनंद बस... Read more
दोहे
करूं तिहारी चाकरी नित्य रहूं मैं संग संसार ये सारा न दिखे ऐसा हो सत्संग। दया क्षमा नेकी करे कर के जाए भूल दूजे की... Read more
चल रे हंसा
चल रे हंसा उड़ि चले नहि रहना या देस इट कागामोती चुगे हिरनउड़ावे रेत। हिरण उड़ावे रेत बढ़ रहे अत्याचारी उजियारे पर मिट्टी डारे छाई... Read more
दीवाली
दीप अवलि किजगमग ज्योति धरा पर जब मुस्कायेगी अमावस्या की अंधियारी स्वयम दूर हो जाएगी । दीप नेह के ऐसे बालो हृदय हृदय से मिल... Read more