Skip to content

मैं एक अहिंदी भाषी हिंदी नवलेखक के रूप मे साहित्य साधना की कोशिश कर रहा हू और मेरी दो किताबें "प्रतिक्षा" और "किसके लिए यह कविता" प्रकाशित हो चुकी है ।

Hometown: Guwahati, Assam
Published Books

प्रतिक्षा, 2008 में
किसके लिए यह कविता, 2017 में

Awards & Recognition

Attend several hindi camps arranged by Central Hindi Directorate, New Delhi

Share this:
All Postsकविता (92)मुक्तक (2)शेर (2)लघु कथा (2)हाइकु (1)
बेबसी
नजाने दुनिया में क्या हो रहा है चैनो सूकून कहाँ खो गया है, धन दौलत सबके पास होते हुए नजाने सब क्यों परेशान लग रहा... Read more
मुक्तक
दिल में हमने चोट हज़ारों खाए हुए है मगर फिर भी जी रहे है एक बुथ की तरह, शिकवा किसीसे क्या करें भरोसा हमने खो... Read more
माथे पर  शिकन
लो बन गया हमारे माथे पर शिकन चिंता की थपेड़ों से , भूल न करना पहचानना मत कहना भाग्यरेखा इसे; भाग्यरेखा हमारे कहा अभागे जन्मे... Read more
कभी अगर चाहो तो
कभी अगर चाहो तो मेरे बारे में सोच लेना, फुर्सत मिले तुम्हें काश तस्वीर मेरा देख लेना । कभी अगर चाहो तो गम हमसे बाँट... Read more
हरेक दिन अमावस
जल रहे है दिए घरों में रौशनी फैलाए, चारों ओर खुशी की रौनक मन हर्षोल्लास पूर्ण सबके; लेकिन फिर भी कहीं किसी कोने में है... Read more
किसे कोसूँ
एक तरफ रोकता है यह हाथ जुर्म करने को, वही दूसरा हाथ दागदार है पेट की आग बुझाने को; कभी डरता हूँ लोगों को अपना... Read more
दर्द सह लूंगा
दर्द सह लूंगा मैं यूंही जिंदगी गुजार दूंगा मैं यूंही, शिकवा किसीसे कुछ नहीं साया भी छोड़ देती साथ यूंही। बहाऊँ आसूँ क्यों किसके लिए... Read more
रावण का वध
कौन कर सकेगा आज रावण का वध, गलि गलि में भरे हुए हैं रावण कितने सारे, लेकिन वध करने उनको एक भी राम आज जनम... Read more
माँ दुर्गा
कई दुर्गाओं को आज मैंने हाथ फैलाए दुर्गा के सामने ही खड़ी होकर लोगों से भीख मांगते देखा है ; आज दुर्गा शायद कमजोर पड़... Read more
वक्त
कपड़ों से तन को ढका जाता है ना कि दिखाया जाता, मगर आजकल यह आलम है सरेआम जिस्म की नुमाइश हो जाता । कोई कहता... Read more
गुलशन
Bikash Baruah शेर Sep 26, 2017
गुलशन सजते है गुलों से पतझड़ से, खारो से नहीं। भंवरा कलि को फूल बना देते भले उसकी सच्ची कदर होती नहीं । फूल महल... Read more
फूलों की किस्मत
बाग में महकने वाले फूलों को माली संभाल लिया करते है, मगर कीचड़ में उगने वाले फूलों को संभालने वाला माली जग में कहाँ मिलते... Read more
गुरबत
फिर एक बार शरत आया है अपने साथ लेकर नवरात्रि का पर्व , चारो ओर चहल-पहल खुशी की है माहौल, रंग बिरंगे कपड़े पहनकर निकलेंगे... Read more
नेताओं की वाणी
नेताओं की वाणी पर हरगिज विश्वास न करना ऐ मेरे भोले भारतवासी, चुनाव से पहले जो कहते वादा जो करते भूल जाते, पहले चार वर्ष... Read more
मोहब्बत
लड़खड़ाता है होंठ मेरा जब भी दिल की बात जुबान पर लाने की नाकाम कोशिश करता हूँ, बड़े अदब से पास उनके जाता तो हूँ... Read more
स्वार्थी
कौन कहता है कि वह स्वार्थी नहीं, मुझसे पूछो अगर मैं कहूंगा तुमसे संसार में रहने वाले हर एक है स्वार्थी, ममता के लिए अगर... Read more
एक तिली हूँ
यह सच है मैं एक तिली हूँ, मुल्य मेरा कुछ नहीं , अस्तित्व मेरा है और ना भी, मगर फिर भी काफी हूँ मैं ,... Read more
कोशिश
तपती सड़क पर नंगे पाँव चलना उतना ही मुश्किल जितना महाकाश में नए ग्रह तलाशना , लेकिन असंभव नहीं संभव सब कुछ हासिल कर पाना... Read more
पानी
कहीं पर बूंद बूंद पानी के लिए तरस रहे लोगों की कतार दिखाई देती, तो कहीं लोग बेझिझक व्यर्थ में ही उसे जाया करती; कुछ... Read more
मुक्तक
भगवान् को खोजे मंदिर में अल्लाह को खोजे मस्जिद में, पर इंसान को कोई न खोजे जो काम आए दुख-सुख में।
आपकी बेवफाई
Bikash Baruah शेर Sep 11, 2017
जरा सी बात पर आपको क्यों इतना गुस्सा आया, यकीन था हमें आपकी वफा पे फिर क्यों हमें रुला दिया । आपको गर हमसे कोई... Read more
घृणा
घृणा करो अगर घृणित न हो, घृणित होकर अगर घृणा करोगे किसीसे तो मूर्खता होगी तुम्हारी; आदमी होकर अगर आदमी से ही घृणा करोगे तो... Read more
जुनून
ऊँची इमारतों को देखकर चक्कर आना कोई मेरी कमजोरी नहीं बल्कि नादानी है, क्योंकि ख्याली पुलाव कभी पकते नहीं और जागकर सपने कोई देखते नहीं;... Read more
घुटन
आजकल कुछ घुटन सा महसूस होने लगा है अपने ही घर में अपनों के बीच रहकर, शायद उन्हें नागवार हो अब मेरी हरकतें, उलझनें और... Read more
महसूस
तुम क्या जानो मेरे दिल को तुम्हारी कौन सी बात चूभ गई है, बेखबर सी रहती हो फुर्सत नहीं है किस कदर परेशान हूँ तुम्हारी... Read more
अत्याचारी
अत्याचारी!तुम लाख करो अत्याचार नहीं टूटेगी हमारी सहने की डोर, हमारे खुन का एक कतरा भी तुम्हारे खिलाफ नहीं मचाएगा शोर । अत्याचारी!चाहे जितना भी... Read more