Skip to content

अभिव्यक्ति का सशक्त माध्यम है साहित्य l समाज के साथ साथ मन का भी दर्पण है l अपने विचार व्यक्त करने का प्रयास है l

Share this:
All Postsकविता (11)गज़ल/गीतिका (2)गीत (1)शेर (3)
होली आई
कलियों पे है योवन छाया, गोकुल की गलियाँ बोली झूम रहा है बरसाना, कान्हा की आई टोली सतरंगी धरती नील गगन, भँवरो का है बहका... Read more
शेर
कुछ दर्द ऐसे भी है जिन्हें कोई बांट नहीं सकता दाँतविहीन भोंकता है, पर वो काट नही सकता खींच कर कमां नजर की, उसने कुछ... Read more
गरीब
फटी है धोती फटी है पगडी उसके पास न धेला दमड़ी कपड़ों से भी झांके छेद, खोल रहे सब तन का भेद जूती में भी... Read more
कान्हा
दे दो दर्शन तरस रहा, आंखों से सावन बरस रहा श्याम मेरे कब आओगे, नैनो की प्यास बुझाओगे वर्षों से मन भटका है, अब तुझ... Read more
बच्चे
हम है छोटे छोटे बच्चे तन के कच्चे मन के सच्चे हमको किसी से बैर नही हमारे लिए क़ोई गैर नही खुशियो का पैगाम बांटते... Read more